गया। मगध मेडिकल कालेज थाना की पुलिस को बड़ी सफलता मिली। रामपुर और मगध मेडिकल थाना की पुलिस ने वाहन चेकिग के दौरान ओटीए गेट के पास एक मोटरसाइकिल के साथ एक बदमाश को गिरफ्तार किया। जांच पड़ताल में पता चला कि बरामद मोटरसाइकिल इसी थाना क्षेत्र के मगध कालोनी से चोरी की गई थी। मोटरसाइकिल पर अंकित नंबर की परिवहन विभाग के साइड से जांच-पड़ताल की गई है। पुलिस ने थाना क्षेत्र में मोटरसाइकिल चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है।

सहायक पुलिस उपाधीक्षक विधि व्यवस्था भरत सोनी ने बताया कि मेडिकल थाना के प्रभारी ने मोटरसाइकिल चोर गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इन लोगों के पास से एक मास्टर कि यानि चाबी मिला है। इससे कोई मोटरसाइकिल का ताला को आसानी से खोला जा सकता है। उनकेपास से चोरी की एक मोटरसाइकिल बरामद की गई है। मगध मेडिकल थानाध्यक्ष शैलेश कुमार के नेतृत्व में यह कार्रवाई की गई है। गिरफ्तार बदमाशों में औरंगाबाद जिले रफीगंज थाना क्षेत्र के धरकुपा गांव निवासी वर्तमान में राजाकोठी मोहल्ला में किराएदार रौशन कुमार को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में ब ताया कि चंदौती थाना क्षेत्र के बंगाली बिगहा निवासी सूरज कुमार और दीपू कुमार से मोटरसाइकिल खरीदे थे। इस सूचना पर दीपू कुमार के घर में छापामारी की गई। उक्त दोनों उस स्थल से पहले हीं फरार हो गए थे। पुलिस देखकर वहां रहे रौशन कुमार और अजित कुमार को बंगाली बिगहा थाना चंदौती से गिरफ्तार किया गया। छापामारी में मास्टर कि, प्रहार कर जख्मी करने वाले लोहे का पंजा एवं दो मोबाइल बरामद किया गया है। उन्होंने बताया कि मोटरसाइकिल चोरी का मास्टर माइंड दीपू और परैया का सूरज है। मोटरसाइकिल गिरोह गैंग को आपरेट करता है। फिलहाल दोनों फरार है। मोटरसाइकिल चोरी करना इनका पेशा है। मोटरसाइकिल चोरी करने के उपरांत 6 से 7 हजार रुपये में बेचा जाता है। उन्होंने बत ाया कि इस गैंग में छह से सात लोग है। मास्टर माइंड अपने गूर्गो को बताता है कि मोटरसाइकिल के लॉक को कैसे खोलना है। इसका प्रशिक्षण दिया जाता है। इस गैंग में डेल्हा, रामपुर और परैया थाना क्षेत्र के सदस्य है। इनकी गिरफ्तार के लिए लगातार प्रयास जारी है। मोटरसाइकिल चोरी के साथ-साथ चंदौती थाना क्षेत्र में गृहभेदन का भी कार्य में सक्रिय रहते हैं।

Edited By: Jagran