संवाद सूत्र ,कोचस(सासाराम)। आए दिन फर्जी चेक से रुपयों की निकासी काम मामला सामने आता रहता है। इस बार सासाराम में फर्जी चेक का इस्तेमाल कर सरकारी खाते से 18 लाख रुपये की निकासी का मामले से महकमे में हड़कंप मच गया है। विभाग को समझ नहीं आ रहा है कि आखिर इस ठगी के पीछे कौन है। 

फर्जी चेक से निकाल लिए 18 लाख 

फर्जी चेक से स्थानीय बाल विकास परियोजना कार्यालय के एसबीआइ एकाउंट से 18 लाख रुपये की अवैध निकासी कर ली गई । इसकी जानकारी होते ही सीडीपीओ कार्यालय सहित स्टेट बैंक के अधिकारी भी हरकत में आ गए हैं। सोमवार को सीडीपीओ सुषमा कुमारी ने थाना में इसकी लिखित शिकायत दर्ज कराई है। चार किस्त में सभी राशि की निकासी चार अलग अलग क्लोन चेक से की गई है।सीडीपीओ ने बताया कि स्थानीय स्टेट बैंक से आरटीजीएस के माध्यम पहली निकासी चार लाख रुपये की हुई है।

उन्होंने कहा कि विभिन्न मदों की राशि की निकासी के लिए बैंक में 84 एवं 85 नंबर का चेक भेजा तो पोषाहार के लिए एक चेक क्लियर हो गया। 85 नंबर का चेक जिसमें स्टेशनरी के लिए चौदह हजार सात सौ रुपये की राशि भरी गई थी उस चेक को यह कहते हुए कैशियर द्वारा लौटा दिया गया कि उक्त चेक नं से तो पूर्व में ही राशि की निकासी कर ली गई है। फर्जी चेक का मामला संज्ञान में आते ही जब एकाउंट की जांच कराई गई तो चेक नंबर 85 के अलावे 88, 90 सहित चार चेक के माध्यम से 18 लाख रुपये की निकासी कर ली गई थी। बताया कि उक्त नंबर के सभी चेक मेरे पास उपलब्ध हैं। किसी तरह का हस्ताक्षर भी किसी चेक पर नहीं किया गया है तो फिर राशि की निकासी कैसे कर ली गई है। यह जांच का विषय है। कोचस शाखा प्रबंधक गणेश चन्द्रा ने बताया कि फर्जी राशि निकासी का आवेदन सीडीपीओ कार्यालय से प्राप्त हुआ है जिसकी जांच की जा रही है।

Edited By: Rahul Kumar