नवादा, जागरण संवाददाता। नगर थाना क्षेत्र के कन्हाई स्कूल के समीप चोरों ने बंद घर को खंगाल डाला। ताला तोड़कर नकदी, सोने-चांदी के जेवरात समेत दस लाख रुपये की संपत्ति पर हाथ साफ कर लिया। बदमाशों ने पैसों से भरी तीन चुकड़ी (मिट्टी से निर्मित पैसा रखने वाला बर्तन) भी गायब कर दिया। घर सहारा इंडिया के एजेंट उत्तम कुमार की है।  पीड़ित उत्तम ने बताया कि उनका मकान किउल-गया रेलखंड के किनारे है। रेलखंड के दोहरीकरण का काम चल रहा है। मिट्टी की खुदाई के चलते मोहल्ले में घरों से निकलने वाले पानी का रास्ता बंद हो गया है। मकान नीचे होने के कारण अंदर पानी भर गया था।जिससे घर में रहना दूभर हो गया था। फलस्वरूप 28 अप्रैल से पूरे परिवार के साथ दूसरे स्थान पर किराए पर रहना पड़ रहा है। रोजमर्रा की जरुरत से जुड़े सामान साथ लेते गए थे। अन्य सामान इसी घर में बंद था। 

स्थानीय लोगों से मिली ताला टूटे होने की सूचना

उन्होंने बताया कि गुरुवार की सुबह दस बजे स्थानीय लोगों से सूचना मिली कि घर का ताला टूटा हुआ है। जिसके बाद घर पहुंचे। मेन गेट सहित अंदर के कमरे का ताला टूटा हुआ था। कमरे में पूरा सामान तितर बितर था। गोदरेज भी टूटा हुआ था। तलाशी लेने पर तीन लाख रुपये नकद, सोने की दो चेन, अंगूठी, मंगटीका, पायल, एलसीडी, सिलाई मशीन समेत आदि गायब थे। चोरों ने बच्चों की तीन चुकड़ी भी गायब कर दी, जो पैसों से भरे हुए थे। तकरीबन दस लाख की संपत्ति की चोरी हुई है। 

भाई के कमरे का भी टूटा है ताला

उन्होंने बताया कि उनके भाई के कमरे का भी ताला तोड़ा गया है। उस कमरे में भी सामान बिखरा पड़ा है। वहां कितनी चोरी हुई, वह भाई के आने पर पता चलेगा। भाई आलोक कुमार उर्फ पंकज प्रयागराज में रेलवे में पदस्थापित हैं। 

आवेदन लेने के बजाए पुलिस मांग रही रसीद

उन्होंने नगर थाना की पुलिस पर प्राथमिकी दर्ज नहीं करने का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि दो दिनों से थाना का चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन पुलिस आवेदन लेने को तैयार नहीं है। चोरी गए सामान की रसीद मांगी जा रही है। अब सामान की रसीद कहां से लाकर दें। पीड़ित परिवार की मदद करने के बजाए उन्हें परेशान किया जा रहा है। पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना करना भी मुनासिब नहीं समझा। बता दें कि नवंबर महीने में शहर में चोरी की यह चौथी वारदात है। लगातार हो रही चोरी की घटनाओं को रोकने में पुलिस पूरी तरह नाकाम है।

Edited By: Vyas Chandra