मदनपुर (औरंगाबाद), संवाद सूत्र। प्रखंड के बनियान पंचायत स्थित रानीकुआं गांव वासियों के लिए इस समय दो-दो आफत मुंह बाए खड़ी है। एक से बचा तो दूसरी आफत जान लेने पर उतारू है।  ग्रामीणों के सामने कमोवेश यही स्थिति बनी हुई है। एक तरफ पूरे  प्रखंड  में  कोरोना संक्रमण का खतरा चरमोत्कर्ष पर है।  वहीं दूसरी तरफ गांव वासियों के सामान भीषण गर्मी में पानी की समस्या भयावह हो गई। मात्र एक चापाकल के सहारे रानीकुआं गांव के सैंकड़ों ग्रामीण आश्रित हैं। जबकि दो चापाकल और गांव में है। लेकिन वह सिर्फ दिखावे के लिए है। वह काफी दिनों से खराब पड़ा है। इसलिए एक ही चापाकल पर पानी लेने को लेकर सुबह चार बजे से लंबी कतार लगी रहती है।

घंटों कतार में लगकर लेते हैं पानी

चापाकल पर पानी लेने पहुंची फुलमतिया देवी, कमला देवी, विवेक कुमार, रिषु रंजन, रामराज पासवान, मनोज विश्वकर्मा, गुंजा कुमारी, खुशी कुमारी, राधा कुमारी ने बताया कि पानी लेने को लेकर इस चापकल पर काफी भीड़ रहती है। पानी लेने के लिए काफी इंतजार करना पड़ता है। एक समय था। जब गांव में एक कुआं से अपनी प्यास बुझाते थे। जो अब सूखा पड़ा है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में  हर घर नल जल योजना के तहत लगाए गए पाइप से भी दो तीन दिनों से पानी नहीं मिल रहा है।

नल-जल योजना का नहीं मिल रहा लाभ

नल जल योजना का लाभ यहां के ग्रामीणों को लिए शोभा की वस्तु बनी है। इसका चालू एवं बंद होने का कोई समय सीमा नहीं है। इस बाबत कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष संजीव कुमार सिंह ने बताया कि इस संबंध में कार्यपालक अभियंता लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग औरंगाबाद को बताया गया। परंतु अभी तक संतोष जनक जबाव नहीं मिला। सिर्फ चापाकल को बनवाने एवं नल जल योजना से पानी मुहैया करवाने का आश्वासन दिया गया है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021