जागरण संवाददाता, सासाराम : रोहतास। गत आठ जून को दिनारा 

प्रखंड में पंचायत निरीक्षण के दौरान मिली खामियों के बाद संबंधित प्रतिष्ठान व लोगों पर कार्रवाई शुरू हो गई है। कुछ दिन पूर्व डीएम धर्मेंद्र कुमार ने प्रखंड के विभिन्न आंगनबाड़ी केंद्रों से जुड़ी सात सेविका व तीन सहायिका को बर्खास्त करने के बाद अब अनियमितता की पुष्टि होने पर सात जन वितरण प्रणाली दुकान की अनुज्ञप्ति को रद करने की कार्रवाई की है।

जिन पीडीएस दुकानों की अनुज्ञप्ति रद की गई है, वे सभी दिनारा प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में संचालित होती थी। डीएम ने यह कार्रवाई बिक्रमगंज के अनुमंडल पदाधिकारी के प्रतिवेदन के आलोक में की है।जिला आपूर्ति पदाधिकारी समरेंद्र कुमार ने बताया कि गत आठ जून को डीएम के नेतृत्व में दिनारा प्रखंड के सभी पंचायतों में टीम बनाकर नल का जल, मनरेगा, पीएम आवास, पीडीएस, आइसीडीएस समेत अन्य योजनाओं की जांच की गई थी। 

इस दौरान चार दर्जन पीडीएस दुकानों की गई जांच में कई बंद पाए गए थे तो कभी में राशन वितरण में अनियमितता पाई गई थी। इस संबंध में मंतव्य के साथ उचित कार्रवाई के लिए प्रतिवेदन सौंपा गया था, जिसके बाद डीएम ने सात दुकानों की अनुज्ञप्ति रद करने की कार्रवाई की है जबकि अन्य को चेतावनी के साथ कार्यप्रणाली में सुधार लाने का निर्देश दिया गया है।

जिन दुकानों की अनुज्ञप्ति रद की गई है उनमें सैंसड़ पंचायत के कृष्ण कुमार गुप्ता (अनुज्ञप्ति संख्या 73/07) व सत्यनारायण गुप्ता (अनुज्ञप्ति संख्या 74/07), जमरोढ़ के शशि चंचल संबद्ध रामाशंकर राम (अनुज्ञप्ति संख्या 15/20), तेनुअज के राधेश्यम राम (अनुज्ञप्ति संख्या 40/07) व आनंद कुमार (अनुज्ञप्ति संख्या 63/07), अरंग पंचायत के चंद्रमा सिंह (अनुज्ञप्ति संख्या 09/07) तथा इसी पंचायत के कामेश्वर सिंह (अनुज्ञप्ति संख्या 11/07) की दुकान शामिल है। कहा कि सुप्रीम कोर्ट से पारित एक न्यायादेश के आलोक में अनियमितता बरतने के आरोप में संबंधित पीडीएस दुकानों की अनुज्ञप्ति रद करने की कार्रवाई आगे भी की जाएगी।

Edited By: Prashant Kumar Pandey