गया : मगध विश्वविद्यालय बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले विभिन्न छात्र संगठनों द्वारा गुरुवार से प्रशासनिक भवन के सामने अनिश्नित कालीन धरना शुरू किया। अनिश्चितकालीन धरना तीन मुख्य मांगों को लेकर शुरू किया गया है। छात्र नेता कुणाल किशोर ने बताया की वर्तमान समय मे जब विश्वविद्यालय में छात्रों के अनुरूप छात्रावास और कर्मचारियों का आवास नही हैं. फिर भी लगभग 6 छात्रावास, लगभग 35 कर्मचारी आवास के साथ लगभग 118 एकड़ दान की भूमि को आईआईएम को दे दिया गया। उसके बाद भी आईआईएम और भूखंड को जबरन कब्जा कर रहा है। उन्होंने अपनी मांग को दुहराते हुए कहा कि आईआईएम बोधगया द्वारा की जा रही अवैध निर्माण पर तत्काल रोक लगायी जाये एवं किये गए अवैध निर्माण को हटाया जाए। क्योंकि विश्वविद्यालय के भूमि को अधिग्रहित कर पृथक संस्था का निर्माण उचित नही है।आईआईएम बोधगया द्वारा अधिकृत की गयी छात्रों का छात्रावास एवं कर्मचारियों के आवास, जिसके कारण इनको रहने में असुविधा हो रही है को पूर्वर्ती व्यवस्था के अनुरूप तत्कालीन रूप से पुनर्वास किया जाये। एमयू में पूर्व से ही छात्रों के अनुपात में छात्रावासों की संख्या कम रही है यधपि आईआईएम. बोधगया द्वारा छात्रावास संख्या 2,3,4,6,7 एवं 8 को अवैध रूप से अधिकृत किया गया है। जिसके कारण विश्वविद्यालय के मूल छात्रों को रहने में असुविधा हो रही है एवं सुचारू रूप से अपनी उपस्थिति विभागों में दर्ज नहीं करा पा रहे है। अत: छात्रवासों की संख्या बढ़ाई जाए एवं आईआईएम. बोधगया द्वारा अवैध रूप से अधिकृत छात्रावासों को पुन: विश्वविद्यालय के छात्रों को आवंटित किया जाये।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप