मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

गया। हर मनुष्य को रामायण का अध्ययन अवश्य करना चाहिए। इससे आत्मा को शांति मिलती है। कष्ट भी दूर होते हैं। हिलसा से आए विरंची महंत दास ने मंगलवार को मानपुर के कुर्मी-सूढ़ी टोले मोहल्ले में आयोजित तीन दिवसीय रामचरित मानस महायज्ञ के दूसरे दिन प्रवचनों से श्रद्धालुओं को निहाल किया। उन्होंने कहा कि धार्मिक आयोजनों में मनुष्य को अवश्य शामिल होना चाहिए। इससे उनकी जीवनशैली में बदलाव आएगी। वे सकारात्मक बातों को ही सोचेंगे। साध्वी इंद्रमणि श्री राम -जानकी के गुणगान करते हुए उनके गुणों का अनुकरण करने की बात कही। उन्होंने कहा कि माता-पिता का आज्ञा पालन करना और उनकी सेवा करना ही सबसे बड़ा धर्म है। ऐसे करने वाले मनुष्य को ही स्वर्ग की प्राप्ति होती है।

----------------------

मंडप प्रवेश व पंचांगपूजा

कुर्मी-सूढ़ी टोले मोहल्ले में भव्य व आकर्षक राम जानकी एवं राधा कृष्ण के मंदिर बनाया गया। उक्त मंदिर में देवी देवताओं की प्रतिमा के प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर तीन दिवसीय राम चरित मानस महायज्ञ का आयोजन किया गया। महायज्ञ के लिए सोमवार को कलश यात्रा निकाली गई थी। मंगलवार को मंडप प्रवेश एवं पंचांगपूजा का विधिवत वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ कराया गया। इसमें मुख्य यजमान के रूप वार्ड पार्षद मनोज कुमार एवं पूर्व पार्षद किरण देवी थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप