जागरण संवाददाता, सासाराम : रोहतास। जिले के लोगों के लिए जल्द ही सस्ते दर पर बालू मिलना शुरू होगा। इसके लिए नीलामी प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। इसके तहत जिले के चिह्नित 17 बालू घाटों की नीलामी होगी। विभाग ने जिले के महादेवा घाट से लेकर सिकरियां तक लगभग 12 सौ हेक्टेयर भूभाग का सर्वे रिपोर्ट सौंप दिया है। नीलामी की प्रक्रिया जिला स्तर से ही समहरणालय से होगी। घाटों का विवरण विभाग ने अपने वेबसाइट पर भी अपलोड कर दिया है। 

ऑनलाइन माध्यम से होगी नीलामी की प्रक्रिया

नीलामी की प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन माध्यम से होगी, जो 19 अक्टूबर तक चलेगी। जिला खनन पदाधिकारी कार्तिकेय कुमार ने बताया कि सोन के अलावे काव नदी में इटवां से लेकर पडरियां तक कुल नौ बालू घाट चिन्हित किये गए हैं। इनमें इटवां 0.3, बाघाखोह 0. 6, चितबिसाव 0.9, सुअरा 0.8, कुशधर ए 0.4, कुशधर बी 0.3, बिक्रमगंज 0.1 तथा पडरियां में 0.3 हेक्टेयर चिन्हित है। इसके अलावे ठोरा नदी के चार घाटों में धरकंधा ए, बी और सी को मिलाकर 0.27 तथा जमसोना में 0.3 हेक्टेयर प्रस्तावित है। 

नीलामी की प्रक्रिया में शामिल होने के लिए कुल 42 अहर्ताओं को पूरा करना होगा। विभाग द्वारा जारी सूचना के मुताबिक सोन नदी में जिन बालू घाटों की नीलामी होनी है उनमें महादेवा 17.83, अतिमीगंज 28.07, नासरीगंज 72.05, अमियावर 99.08, सबदला ए 86.04, सबदला बी 46.08, पड़री 98.08, दरिहट ए 96.05, दरिहट बी 98.03, चैनपुर 98.95, बेरकप ए 96.07, बेरकप बी 89.96, हुरका 57.08, मकराइन 33.07, डेहरी 69.06, बडीहां 86.01 और सिकरियां 97.04 हेक्टेयर शामिल हैं। 

ओवर लोडिंग पर सख्त पाबंदी 

ओवर लोडिंग पर सख्त पाबंदी के के लिए कड़ा जुर्माना भी निर्धारित किया गया है। जांच के दौरान ओवरलोड वाहनों के पास जिन घाटों की पर्ची पाई जाएगी उसके संचालक पर भी विभाग कार्रवाई कर सकता है। वर्तमान में पूर्व से स्टॉक में रखे लगभग 20 लाख सीएफटी का उठाव व बिक्री चालू है। बालू घाटों की नीलामी के बाद आमलोगों को कुछ सस्ते दरों में बालू मिलने से निर्माण कार्य में राहत मिलेगी।

Edited By: Prashant Kumar Pandey