ट्रांसफार्मर बदलने की मांग को लेकर किया सड़क जाम

खिजरसराय (गया)। खिजरसराय प्रखंड क्षेत्र के पचमहला गांव का ट्रांसफार्मर जलने से पिछले 15 दिनों से पूरे मोहल्ले में अंधेरा व्याप्त है। साथ ही लोगों के समक्ष पेयजल की समस्या उत्पन्न हो गई है। इससे नाराज होकर लोगों ने बुधवार को गया-पटना मुख्य सड़क को जाम कर दिया। सड़क जाम रहने से आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया और सड़क के दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतार लग गई। सड़क जाम करने में महिलाओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। जाम की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन ग्रामीण ट्रांसफार्मर बदले जाने की मांग पर डटे रहे। ग्रामीणों का कहना था कि ट्रांसफार्मर को जले 15 दिन हो गए। हम लोग बिजली विभाग का चक्कर काट रहे हैं, लेकिन कहीं कोई सुनने वाला नही है और ना ही कोई कार्रवाई हो रही है। हमलोग विवश होकर सड़क जाम किये हैं। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक ट्रांसफार्मर बदला नहीं जाता है हम लोग सड़क जाम रखेंगे। इस दौरान ग्रामीणों ने बिजली विभाग के पदाधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मौके पर पहुंचकर जदयू नेता नरेश प्रसाद ने लोगों को समझाया एवं बिजली विभाग के कर्मियों से बात कर 24 घंटे में ट्रांसफार्मर लगवाने का आश्वासन दिया। उसके बाद ग्रामीणों ने सड़क जाम समाप्त कर दिया।

डीएवी के बस चालक पर मुकदमा, पुलिस ने की छापेमारी

गया। डीएवी पब्लिक स्कूल कैंट एरिया की बस चालक की लापरवाही के कारण विद्यालय की छात्रा माही की मौत के मामले में बोधगया थाने में दर्ज की गई है। पुलिस बस चालक की खोजबीन शुरु कर दी है। थानाध्यक्ष रुपेश कुमार सिन्हा ने बताया कि बस चालक की लापरवाही के कारण छात्रा की मौत हुई है। छात्रा अपने स्वजन के साथ घर आने के लिए सड़क के किनारे टेम्पो के इंतजार में खड़ी थी, तभी बस को लेकर चालक विद्यालय में प्रवेश कर रहा था, इसी क्रम में छात्रा को कुचल दिया। जहां उसकी छात्रा की मौत हुई थी। थानाध्यक्ष ने बताया कि चालक की लापरवाही के कारण घटना घटी है। पीड़ित परिवार के बयान पर मुकदमा हुआ है। आवेदन में बस नंबर दिया गया है। चालक का नाम नहीं बताया गया है। विद्यालय प्रबंधन द्वारा इस संबंध में पूछताछ की गई है। तब बताया गया कि वह सरबहदा गांव का रहने वाला है। उसे खोजने और गिरफ्तारी करने के लिए अलग-अलग स्थानों पर छापामारी कर रही है। चालक मोबाइल बंद कर घर से फरार है। विद्यालय और आसपास लगे सीसीटीवी फूटेज को भी खंगाल रही है। थानाध्यक्ष ने बताया कि तोड़फोड़ की घटना की विद्यालय प्रबंधन की ओर से आवेदन नहीं दिया गया है। प्राचार्य अंजलि ने कहा कि 15 अगस्त को छात्रा की मौत से काफी मर्माहत हैं। प्राचार्य ने बताया कि बच्ची की मौत के बाद कुछ लोग जो पीड़ित परिवार से जुड़े नहीं थे। वैसे लोगों ने विद्यालय प्रबंधन की 10 बसों को नुकसान पहुंचाया है।

Edited By: Jagran