गया। सूबे के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) के माध्यम से समाज के अंतिम पायदान पर रहनेवाले व्यक्ति तक बैंकिंग सेवा पहुंचाई जाएगी।

वे शनिवार को प्रधान डाकघर में आईपीपीबी सेवा का शुभारंभ कर रहे थे। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया की दिशा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनलोगों के लिए यह शुरूआत की है, जो बैंकों तक नहीं पहुंच पाते हैं। अब बैंक उनके दरवाजे तक पहुंचेगा। इस सेवा का लाभ कोई भी व्यक्ति आसानी से उठा सकता है। न खाता खोलने का झंझट है और न ही बैंक जाने का। फोन करते ही बैंक दरवाजे पर आ जाएगा। इसके माध्यम से किसी भी तरह की लेनदेन कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि डाकघरों का नेटवर्क बैंक से कई गुणा अधिक है। विभाग के डाकिया या ग्रामीण डाकसेवक गांव के प्रत्येक के घर को पहचानते हैं। लोग भी उन्हें पहचानते हैं। लोगों तक पैसा आसानी से पहुंच जाएगा।

2014 में प्रधानमंत्री ने लालकिला से जो वादा किया था, डिजिटल इंडिया का वह सपना साकार होता दिख रहा है। सांसद हरि मांझी ने इस योजना की सराहना की। वरीय डाक अधीक्षक रंजय कुमार सिंह ने कहा कि इस प्रणाली से काफी सरल तरीके से लोगों को बैंक का लाभ मिलेगा। सिर्फ डाकघरों में खाता होना चाहिए। वरीय प्रबंधक मुकेश कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

Posted By: Jagran