गया । गया में बिना कोई बाधा के पितृपक्ष मेला शनिवार को संपन्न हुआ। मेले की बेहतर व्यवस्था ने गया सहित बिहार का देश व विदेश में मान बढ़ाया है। अगले साल इससे भी ज्यादा व बेहतर व्यवस्था होगी। देश-विदेश से आए पिंडदानी अच्छी छवि लेकर लौटे हैं।

ये बातें शिक्षा मंत्री सह प्रभारी मंत्री डॉ. कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने विष्णुपद परिसर में आयोजित पितृपक्ष मेला के समापन पर कहीं।

मंत्री ने कहा कि मेले में अच्छी व्यवस्था के लिए जिला प्रशासन के साथ-साथ यहां नागरिक भी बधाई के पात्र हैं। अच्छी व्यवस्था के कारण ही बाहर से आने वाले लोगों के मन में यह बात बैठ गई है कि अब बिहार बदला हुआ है। पिंडदानियों ने यहा आकर सेवा का मौका दिया यह गौरव की बात है। पितृपक्ष मेले के महत्व को देखते हुए पितरों को मोक्ष दिलाने के लिए बिहार ही नहीं देश -विदेश से लोग आते हैं। सभी के मन में अच्छी धारणा बनी है। सेवा व काम के कारण ही अधिकारियों के चेहरे पर मुस्कान है। ऐतिहासकि महत्व का मेले में अतिथियों को अच्छी सेवा व सुविधा देने की परीक्षा होती है। मंत्री ने चेतावनी भर लहजे में कहा कि सीएम नीतीश कुमार ने जो टास्क अधिकारियों को दिया, उसे बिंदूबार हल किया गया। मंत्री ने यह भी कहा कि बिहार में जब से एनडीए की सरकार आई है विकास देखने को मिल रहा है। विकास की गति को बनाए रखने की नसीहत अधिकारी को दी। उन्होंने जल जीवन हरियाली योजना में सभी नागरिकों का सहयोग मांगा। अभियान में सहयोग करें ताकि जल जीवन हयियाली बिहार की पहचान बन जाए। मंत्री ने कहा कि जो सच्चे मन, लग्न और ईमानदारी से काम करते हैं, उनका साथ ईश्वर भी देते हैं। पहले यहां सुखाड़ था। मौसम बदला है। पानी आया है। जलस्तर बढ़ा है। पीने का पानी का संकट भी खत्म हुआ।

----

कुशल प्रबंधन के कारण

बेहतर व्यवस्था: आयुक्त

प्रमंडलीय आयुक्त असंगबा चुबा आओ ने कहा कि पितृपक्ष मेले में बेहतर प्रबंधन और नागरिकों के सहयोग अच्छी छवि बनी है। इसकी प्रशंसा की। 17 दिनों के पितृपक्ष मेले में उत्कृष्ट प्रबंधन रहा। सभी विभागों की टीम ने बेहतर काम किया। कोई शिकायत नहीं आई, कोई समस्या नहीं हुई। यह बेहतर प्रबंधन को साबित करता है। इसका अच्छा असर पूरे राज्य की छवि पर होगा। यह शहरवासियों की सफलता है।

-----

छह से सात लाख

पिंडदानी आए : डीएम

डीएम अभिषेक सिंह ने कहा कि उम्मीद के अनुरूप कुछ पिंडदानी कम आए। बाढ़ के कारण कम आए। इसके बाद भी इस बार छह से सात लाख तीर्थयात्री यहां आए। शहर की आबादी के बाद पिंडदानियों की संख्या बढ़ने के बावजूद व्यवस्था अच्छी रही। सभी विभाग के अधिकारी व कर्मियों ने अपनी भूमिका और कर्तव्य बढि़या से निभाया। स्वास्थ्य शिविर में 40 हजार लोगों को लाभ पहुंचाया है। 2550 बिछुड़े पिंडदानियों को परिजनों से मिलाया गया।

------

लोगों का मिला सहयोग: एसएसपी

एसएसपी राजीव मिश्रा ने कहा कि मेले की सफलता में स्थानीय लोगों का काफी सहयोग मिला। शुरू में कम बल मिलने के कारण चिंतित थे। लेकिन बाद में जवान मिले, स्थानीय लोगों का सहयोग मिला। शहर की यातायात व्यवस्था से लेकर पिंड स्थल पर जवान तैनात रहे। शांतिपूर्ण तरीके से मेला को संपन्न कराने में जवानों के साथ-साथ आम लोगों का भी भरपूर सहयोग रहा। पुलिस 12-12 घटे के दो शिफ्ट में तैनात रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप