गया। वन प्रक्षेत्र बाराचट्टी अंतर्गत संघवा गांव के जंगल में वन विभाग की भूमि पर व्यापक पैमाने पर अवैध रूप मादक पदार्थ अफीम की खेती हो रही है। शुक्रवार को वनों के पदाधिकारी विवेकानंद स्वामी के नेतृत्व में 17 एकड़ 37 डिसमिल में लगी अफीम की फसल को जेसीबी चलाकर नष्ट किया गया। इस कार्रवाई में एसएसबी धनगांई के जवान व नारकोटिक्स विभाग पटना के पदाधिकारी मौजूद थे।

बाराचट्टी एवं धनगांई थाना क्षेत्र के सुदूरवर्ती व जंगली इलाके में काफी मात्रा में अफीम माफियाओं के द्वारा अफीम जैसे मादक पदार्थ की खेती की गई है। वन प्रमंडल पदाधिकारी अभिषेक कुमार एवं गया जिला प्रशासन के द्वारा इस खेती को रोकने तथा इससे होने वाले नुकसान के बारे में जंगली इलाके में जागरूकता लाने का प्रयास किया गया। परंतु उसका फलाफल इलाके में कुछ और ही नजर आता है। लेमन ग्रास की खेती कर लोगों को पैसे की आमदनी की रास्ते भी बताए गए, परंतु उसका असर नहीं दिख रहा है। अब देखना यह है अफीम की खेती जितनी अधिक मात्रा में की गई है, वह वन विभाग तथा जिला प्रशासन के द्वारा संपूर्ण रूप से नष्ट हो पाता है या नहीं। वहीं माफिया अफीम की खेती कर इनकी करवाई को धता बताते हुए वन विभाग एवं जिला प्रशासन को चुनौती दे रहे हैं। माफिया के मनोबल पर जरा असर नहीं पड़ रहा है। मारपीट में घायल की मौत

फतेहपुर। थाना क्षेत्र के भेटौरा के रहने वाले अर्जुन यादव की इलाज के दौरान रांची में गुरुवार की देर रात मौत हो गयी। अर्जुन यादव के साथ दो दिसंबर को भेटौरा के ही कुछ लोगों के द्वारा मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया था। इस मामले में फतेहपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज किया गया था। वहीं अर्जुन यादव की प्राथमिक उपचार सीएचसी फतेहपुर में कराने के बाद बेहतर इलाज के लिए गया रेफर किया गया था। स्थिति में सुधार नहीं होने पर परिजनों द्वारा इलाज के लिए रांची रिम्स में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दौरान शुक्रवार की देर रात उसकी मौत हो गयी। वहीं शनिवार की देर शाम को स्वजनों ने शव को फतेहपुर थाना में लाकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। थानाध्यक्ष राहुल रंजन ने बताया कि मारपीट की घटना की प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। वहीं अर्जुन यादव की मौत के बाद इस मामले में धारा 302 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran