संवाद सूत्र, परैया (गया)। गया जिले के परैया प्रखंड के विभिन्न सरकारी व निजी संस्थान में बिहार का स्थापना दिवस बिहार दिवस के रूप में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इसमें बच्चों व बड़ो की भागीदारी देखी गयी। सभी शिक्षण संस्थान में स्कूली बच्चों ने शिक्षकों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बधाई सह प्रोत्साहन पत्र को पढा। इसमें बिहार के विकास गाथा का वर्णन करते हुए।

विकसित बिहार निर्माण में सभी के सहयोग की अपेक्षा को मुख्यमंत्री ने व्यक्त किया है। इस पत्र में सामाजिक उत्थान हेतु शिक्षा को सबसे बड़ा हथियार बताते हुए बच्चों को मन लगाकर पढ़ने का का आह्वाहन किया गया है। सात निश्चय अंतर्गत जारी कल्याणकारी योजनाओं को ऐसे ही आगे बढ़ाने हेतु सात निश्चय के दूसरे भाग प्रारूप को लागू करने की बात भी कही गयी है। इस सर्वघोषित अभियान में 'युवा शक्ति बिहार की प्रगति' का नारा दिया गया है। विभिन्न शिक्षण संस्थान के साथ तकनीकी व व्यवसायिक पढाई को भी आगे बढ़ाने हेतु अनुमंडल स्तर पर ऐसे संस्थान के स्थापना की बात भी कही गयी है।

प्रखंड के ऐतिहासिक पर्षद मध्य विद्यालय में स्कूली छात्रों के साथ सभा की शुरुआत बिहार गीत के साथ हुई। जिसके बाद शिक्षकों ने बिहार के गौरवशाली इतिहास को बताया। जिसमें प्रेरणादायक कहानी व कविता का पाठ किया गया। युवा कवि शम्भू शिखर की कविता "हम श्रमनायक है भारत के हम मेधा के अवतारी है, हम सौ पर भारी एक पड़े हम धरती पुत्र बिहारी है" कि बोल से शिक्षक, छात्र सहित विद्यालय परिसर से सटे बाजार के लोग उत्साहित हो गए। प्रेरणादायक कविता को शिक्षक के साथ छात्रों ने भी गया। जिसके विद्यालय के प्रधानाध्यापक जितेंद्र कुमार के साथ शिक्षक अनुज कुमार, पंकज कुमार, रामशीष दास, सुधीर कुमार, शिक्षिका नीतू कुमारी, के दुर्गा, सुनीता कुमारी के अलावा बीआरपी मनीष कुमार, चंद्रभूषण सिंहा, शिक्षक अभिषेक कुमार, मो सलाहुद्दीन आदि शामिल हुए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप