गया, जेएनएन। नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) के खिलाफ शुक्रवार को गया में मुस्लिम फ्रंट मोर्चा की ओर से जुलूस निकाला गया। जुलूस में शामिल लोगों ने रास्‍ते से गुजर रही भाजपा नेत्री शोभा सिन्‍हा पर हमला कर दिया। उस समय भाजपा नेत्री अपने बेटे के साथ कार से कहीं से जा रही थी। हमला होते देख वे अपने बेटे को लेकर सुरक्षित स्‍थान की ओर भागीं। वे दोनों बाल-बाल बचे। लेकिन इस हमले में उनकी कार क्षतिग्रस्‍त हो गई है। वहीं आनन-फानन में भाजपा नेत्री शोभा सिन्‍हा ने पुलिस को इसकी सूचना दी है। घटना की जानकारी पाते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई है। बता दें कि शोभा सिन्‍हा अभी बिहार भाजपा महिला मोर्चा की उपाध्‍यक्ष हैं।  उधर, औरंगाबाद के भाजपा सांसद सुशील कुमार सिंह ने घटना की निंदा की है। 

जानकारी के अनुसार, गया में शुक्रवार को नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) के खिलाफ मुस्लिम फ्रंट मोर्चा की ओर से जुलूस निकाला गया। इस जुलूस को राजद, जाप, हम, वीआइपी आदि दलों की ओर से समर्थन दिया गया था। बताया जाता है कि जुलूस के दौरान ही भाजपा बिहार प्रदेश महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष कुमारी शोभा सिन्हा अपने बच्चे के साथ बाजार जा रही थी। इसी क्रम में जुलूस में शामिल कुछ लोगों ने उनकी कार को जबरन रुकवाया। भाजपा नेत्री की गाड़ी पर पार्टी का झंडा लगा हुआ था। इसे देख जुलूस में शामिल लोग जोर-जोर से नारेबाजी करने लगे।

इसके बाद कुछ लोगों ने गाड़ी में लगे पार्टी के झंडे को उतार कर सड़क पर फेंक दिया। फिर वे लोग प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के खिलाफ नारेबाजी करते हुए महिला नेत्री की गाड़ी पर हमला कर दिया। इतना पर भी लोग नहीं रुके। जुलूस में शामिल लोगों ने डंडे और रॉड से उनकी कार पर पीछे से हमला कर दिया। इस घटना में गाड़ी का  शीशा टूट गया। घटना से महिला व बच्‍चा दहशत में आ गए।

बताया जाता है कि कुछ हमलावर गाड़ी में बैठी भाजपा नेत्री के बेटे को खींचने का प्रयास किया। तब नेत्री शोभा सिन्‍हा अपने बेटे को लेकर वहां से जान बचाकर भागी। कार को छोड़कर उनका ड्राइवर भी जान बचाकर भागा। भागने के क्रम में ड्राइवर के साथ मारपीट हुई। इस बाबत महिला नेत्री शोभने बताया कि इस घटना से उनका परिवार दहशत में है। 

उधर, औरंगाबाद के भाजपा सांसद सुशील कुमार सिंह ने भाजपा की महिला नेत्री के ऊपर जानलेवा हमले की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्‍होंने कहा कि एक महिला वो भी दलित के ऊपर हमला अत्यंत निंदनीय और अक्षम्य अपराध है। राजनीति में हिंसा की कोई जगह नहीं होनी चाहिए। किसी राजनीतिक दल की नीतियों अथवा सरकार के किसी निर्णय से सारे लोग सहमत हों ये कोई ज़रूरी नहीं, लेकिन किसी दलित महिला पर जानलेवा हमला विरोधियों की विकृत मानसिकता को दर्शाता है। दोषियों की शीघ्र गिरफ़्तारी होनी चाहिए और कठोरतम कार्रवाई करनी चाहिए।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस