गया, जागरण संवाददाता। अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कालेज में 2016-17 में अनुबंध पर चतुर्थवर्गीय कर्मियों की बहाली का मामला गरमा गया है। इस पूरे मामले में विभाग के आदेश पर मगध प्रमंडलीय आयुक्त मयंक बरबड़े की ओर से गठित जांच टीम ने अपनी रिपोर्ट आयुक्त को उपलब्ध करा दी है। आयुक्त ने कहा कि नगर आयुक्त की अध्यक्षता में बनी जांच कमेटी की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। आगे की कार्रवाई के लिए पूरी जांच रिपोर्ट विभाग में भेज दी गई है। अब विभाग से जो भी निर्देश प्राप्त होगा उस अनुरूप कार्रवाई की जाएगी। अनुबंध पर हुई उक्त बहाली में चयन समिति में रहे कई वरीय चिकित्सा पदाधिकारी अभी भी मेडिकल कालेज में ड्यूटी पर हैं। अब विभाग के स्तर से किस तरह की कार्रवाई होती है यह देखने वाली बात होगी।

पुरुष के पद पर महिला का चयन किए जाने की शिकायत

  आरोप है कि साल 2016-17 में हुई इस बहाली में बड़े पैमाने पर अनियमितता हुई। बहाली के 11 माह तक सभी कर्मी नियमित रूप से सेवा में रहे। इसके बाद अनियमितता की शिकायत हुई। शिकायत में तीन सगी बहनों को अलग-अलग जाति की कैटेगरी में दिखाकर गलत तरीके से चयन कर लिए जाने की बात सामने आई। ओबीसी, सामान्य व यूबीसी जाति बताकर बहाली करने का आरोप लगा। आरोप यहां तक लगा कि पुरुष पद पर एक महिला को बहाल कर लिया गया। इस तरह की गंभीर शिकायत के बाद विभागीय स्तर से कार्रवाई हुई। जिसके बाद बहनें न्यायालय में पहुंची। जहां से विभाग को जांच के लिए निर्देशित किया गया। विभाग की ओर से अभी वर्तमान प्रमंडलीय आयुक्त को पूरे मामले की जांच कराने के लिए कहा गया। जिसके बाद जिला स्तर पर इस पूरे चयन प्रक्रिया की जांच कराई गई।

Edited By: Sumita Jaiswal