भभुआ, जागरण संवाददाता। पीएम आवास योजना के आवास सॉफ्ट पर जोड़े गए 11,790 फर्जी लाभुकों का नाम हटाया गया है। पक्का भवन, चार पहिया वाहन सहित योजना में पात्रता नहीं रखने वाले लोगों का नाम भी आवास सहायकों ने योजना के लाभ के लिए गलत ढंग से आवास सॉफ्ट पर जोड़ दिया है। जिसकी जांच ग्रामीण विकास विभाग के निर्देश के तहत जिले में कराई जा रही है। आवास सॉफ्ट पर सर्वे के माध्यम से जोड़े गए लाभुकों के नाम के सत्यापन का कार्य जिले में चल रहा है।

ग्रामीण विकास विभाग के विशेष सचिव ने उप विकास आयुक्त को पीएम आवास योजना ग्रामीण के अंतर्गत आवास एप के माध्यम से नाम शामिल किए गए परिवारों के सत्यापन के संदर्भ में पूर्व में आवश्यक दिशा निर्देश दिया था। जिसके आलोक में जिले में लाभुकों का भौतिक सत्यापन कराया जा रहा है। इस संबंध में एमआइएस पदाधिकारी सुधीर कुमार पांडेय ने बताया कि जिले में उप विकास आयुक्त के निर्देश पर प्रखंडों में बीडीओ द्वारा आवास सॉफ्ट पर जोड़े गए नामों के भौतिक सत्यापन का कार्य किया जा रहा है।

बीडीओ की अनुशंसा पर अयोग्य लाभुकों के नाम आवास सॉफ्ट एप से हटाने की कार्रवाई जिला स्तर से की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा विभाग द्वारा भी अयोग्य लाभुकों के नाम हटाने की कार्रवाई की जा रही है। अब तक जिले में 11790 फर्जी लाभुकों के नाम सूची से हटाए जा चुके हैं। लगातार प्रखंड स्तर पर भौतिक सत्यापन की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने बताया कि आवास सॉफ्ट पर 52,450 लोगों के नाम जोड़े गए हैं।

प्रखंडवार आवास सॉफ्ट पर जोड़े गए नामों की संख्या

अधौरा- 1876

भभुआ-7995

भगवानपुर-3837

चैनपुर-7598

चांद-5598

दुर्गावती- 4056

कुदरा-5135

मोहनियां- 5347

नुआंव-1714

रामगढ़-3156

रामपुर- 6138

जिलास्तर से प्रखंडवार हटाए गए फर्जी लाभुकों की संख्या

अधौरा- 411

भभुआ- 1768

भगवानपुर- 1042

चैनपुर-1389

चांद- 622

दुर्गावती- 437

कुदरा- 998

मोहनियां- 849

नुआंव-314

रामगढ़-1156

रामपुर- 2804

 

Edited By: Sumita Jaiswal