संसू, भभुआ : रामपुर प्रखंड के सबार भभुआ मुख्य पथ पर सबार मां काली मंदिर के पास सवारी बस ने एक बच्ची को रौंद दिया। जिसमें उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गयी। घटना गुरुवार को दोपहर के बाद की बताई जाती है। इस घटना के बाद लोगों की काफी भीड़ जुट गई है। आक्रोशित लोगों द्वारा सड़क को जाम करते हुए मुआवजे की मांग की जाने लगी। वही मौके पर करमचट थाने की पुलिस भी पहुंच गई है। 

उचित मुआवजे का आश्वासन मिलने के बाद, शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा

घटना के लगभग 2 घंटे बाद मृतका के छोटे दादा बासदेव सिंह को पुलिस प्रशासन द्वारा उचित मुआवजे का आश्वासन मिलने के बाद शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भभुआ भेज दिया गया। घटना के बाद बस ड्राइवर ने भागने के दौरान लगभग 400 मीटर की दूरी पर एक ट्रॉली में टक्कर मार दिया और मौके से फरार हो गया। हालांकि बस के भागने के दौरान और कोई घायल नहीं हो पाया। करमचट थाने की पुलिस ने धक्का मारने वाली अमन नामक सवारी बस को जब्त करने की बात कही जा रही है।

सबार मां काली मंदिर में पूजा करने के लिए आई थी

मिली जानकारी के मुताबिक, मृतक बच्ची करमचट थाना क्षेत्र के झाली गांव के रामजी सिंह कुशवाहा की 12 साल की पुत्री आराधना कुमारी (रानी कुमारी) बताई जाती है। जो अपनी बड़ी मां के साथ सबार मां काली मंदिर में पूजा करने के लिए आई थी। पूजा करने के बाद ऑटो पकड़ कर सबार मां दुर्गा मंदिर में पूजा के लिए जा रही थी। ऑटो से चप्पल गिरने के बाद उतर कर चप्पल ले रही थी। इसी बीच तेज रफ्तार भभुआ की तरफ से आ रही अमन नामक सवारी बस ने बच्ची को रौंद दिया। जिसमें बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। घटनास्थल पर लोगों की काफी भीड़ जुट गई है। सबार भभुआ मुख्य पथ को लोगों द्वारा पेड़ की टहनियों को रख सड़क जाम कर दिया गया। घटना की सूचना पर करमचट थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह दलबल के साथ पहुंचे। जहां पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेना चाही। लेकिन परिजनों के आने इंतजार व मुआवजे की मांग को लेकर लोगों के द्वारा जाम किया गया था।

कक्षा चार की थी छात्रा

मिली जानकारी के अनुसार, मृतका बच्ची आराधना कुमारी झाली गांव के उत्क्रमित मध्य विद्यालय में कक्षा चार की छात्रा थी। विद्यालय में साथ में पढ़ने वाले बच्चों ने बताया कि आराधना पढ़ने में ठीक थी और शांत स्वभाव की थी। वह हमेशा स्कूल आती थी।

मृतका दो बहनों व एक भाई में थी सबसे बड़ी 

परिजनों द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक, मृतिका आराधना कुमारी अपने दो बहनों व एक भाई में सबसे बड़ी थी। जिसमें आराधना कुमारी 12 साल, रिया कुमारी 6 साल, भाई अंकुश राज 3 साल का बताया जाता है। वही मृतका बच्ची के पिता रामजी सिंह कुशवाहा कर्नाटक में कंपनी में मजदूरी का काम करते हैं। जो अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। 2 माह पहले ही अपने गांव से कर्नाटक में कंपनी में मजदूरी करने के लिए गए है।

आवेदन के आधार पर होगी कार्रवाई 

इस संबंध में करमचट थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने बताया कि सड़क दुर्घटना में झाली गांव के एक बच्ची की मौत हो गई है।इस मामले में धक्का मारने वाले सवारी बस को जब्त कर लिया गया है। परिजनों द्वारा जो भी आवेदन मिलेगा उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही परिजनों को उचित मुआवजा देने के आश्वासन के बाद शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भभुआ सदर अस्पताल भेज दिया गया है।

Edited By: Prashant Kumar Pandey