गया। टिकारी अनुमंडलीय अस्पताल में पिछले दो दिनों में घटी घटना और बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर शुक्रवार को सिविल सर्जन टिकारी पहुंचे। जहां एसडीओ, डीएसपी, अस्पताल उपाधीक्षक सहित अन्य पदाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।

बैठक के दौरान सिविल सर्जन डॉ केके राय ने अस्पताल प्रशासन को दो टूक शब्दों में कहा कि इलाज करने के बजाय रेफर करने की आदत में सुधार लाएं। इसके लिए एक मापदंड निर्धारित करते हुए कहा कि जिन मरीजों का ऑक्सीजन लेवल 80 से नीचे हो और उसकी हालत खराब हो उसे ही गया रेफर करें। जबकि ऑक्सीजन लेवल 80-90 वाले मरीज को अनुमंडलीय अस्पताल और 90-95 वाले मरीज को कोविड हेल्थ केयर के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर इलाज करने का निर्देश अस्पताल उपाधीक्षक को दिया। सिविल सर्जन ने कोरोना पॉजिटिव मरीज का शव ठेला पर ले जाने की खबर का जिक्र करते हुए नगर प्रशासन के साथ समन्वय स्थापित कर एक शव डिस्पोजल टीम का गठन करने का निर्देश एसडीओ को दिया। उन्होंने कहा कि जिला में मोर्चरी वाहन (शव ढोने वाला) का अभाव है। टिकारी अस्पताल को शीघ्र एक इस तरह का वाहन उपलब्ध कराने का सिविल सर्जन ने अधिकारियों को आश्वासन दिया। उन्होंने स्पष्ट कहा कि कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत होने पर उसका सुरक्षित अंतिम संस्कार करना हम सभी की जिम्मेवारी है। इसमें किसी प्रकार की कोताही नही होनी चाहिए। साथ ही कोविड टेस्ट में पॉजिटिव पाए जाने वाले व्यक्ति को सुरक्षित होम आइसोलेशन में भेजने के लिए बीडीओ को वाहन उपलब्ध कराना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। जबकि आइसोलेशन वार्ड में पुलिस के साथ मजिस्ट्रेट की प्रतिनियुक्त करने का निर्देश एसडीओ को दिया। सिविल सर्जन ने यह भी स्पष्ट किया कि अगर किसी कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की मौत होने पर उसके स्वजन शव को ले जाने से इनकार करता है तो इसकी तत्काल सूचना जिला प्रशासन को दें।

उक्त बैठक में एसडीओ करिश्मा, डीएसपी नागेंद्र कुमार सिंह, प्रभारी अस्पताल उपाधीक्षक डॉ विश्वमूर्ति मिश्रा, निर्वाचन पदाधिकारी राजीव रंजन, अस्पताल प्रबंधक अजित कुमार सिंह, प्रभारी थानाध्यक्ष राहुल रंजन आदि मौजूद थे।