औरंगाबाद, जागरण संवाददाता। भाजपा के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य सह पूर्व केंद्रीय मंत्री व एमएलसी डा. संजय पासवान ने रविवार को भाकपा माओवादी नक्सलियों को भारत के संविधान में आस्था और विश्वास रखने तथा संवाद कायम रखने की बात कही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री रफीगंज प्रखंड के कासमा में भाकपा माओवादी के शीर्षस्थ नेता सह पोलित ब्यूरो सह मिलिट्री कमीशन के सदस्य रहे जगदीश मास्टर से मुलाकात के दौरान उक्त बातें कही। दोनों नेताओं के बीच करीब दो घंटे तक बात हुई। इस दौरान दोनों के बीच कई गंभीर मामलों पर बातचीत हुई।

सरकार को कॉमरेडों की संपत्ति जांच का अधिकार नहीं

 जगदीश मास्टर ने कहा कि माओवादी नेता विजय कुमार आर्य और प्रमोद मिश्र के स्वजनों को सरकार व पुलिस तंग कर रही है। मेरे नेताओं की संपत्ति की जांच करने का इडी को कोई अधिकार नहीं है। हमारे कामरेडों ने यदि अवैध संपत्ति जमा की है तो मेरी पार्टी जांच करेगी। ईडी सरकार के भ्रष्ट  अधिकारियों की संपत्ति जांच करे। अगर सरकार मेरे नेताओं की संपत्ति जांच करेगी तो पार्टी भी सरकार के अधिकारियों की संपत्ति जांच करना शुरु करेगी।

हम विवाद नहीं संवाद चाहते

जगदीश मास्टर ने अपने संघर्ष के दौरान हुई घटनाओं और सरकार की प्रतिक्रिया का जिक्र किया। बातचीत के बाद डॉ. संजय पासवान ने कहा कि वे कबीर पंथ संस्था की ओर से संवाद स्थापित करने आए थे। माओवादी भी इसी देश के लोग हैं उनसे विवाद नहीं संवाद होना चाहिए और वे चाहते हैं कि माओवादी मुख्यधारा में आए यही उनका प्रयास है। उन्होंने कहा कि सरकार और माओवादियों के बीच संवाद कायम हो इसके लिए वे प्रयास करेंगे। कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार देश में अमन शांति कायम करना चाहते हैं। सभी पक्षों से बातचीत कर कैसे देश को विश्व शक्ति के रुप में स्थापित करें यह प्रयास है।उधर एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि दोनों की मुलाकात की जानकारी उन्हें नहीं है। इस मौके पर गोह राजद नेता श्याम सुंदर, बंधी अधिकार समिति के अभियान संतोष उपाध्याय, राम पूजन कुमार, राजद छात्र नेता अमन यादव उपस्थित रहे।

 

Edited By: Sumita Jaiswal