गया । दुनियाभर में मोक्षभूमि गयाजी की प्रसिद्धि है। यही कारण है कि विदेशों से भी पूर्वजों की मोक्ष की कामना के लिए गयाजी पिंडदान करने के लिए श्रद्धालु आ रहे हैं। गुरुवार को तीन देशों के छह श्रद्धालु पिंडदान करने पहुंचे। फल्गु नदी के देवघाट पर कर्मकांड और तर्पण किया।

गया के तीर्थ पुरोहित के आशीष वचन के बाद हिदू धर्म प्रचारक लोकनाथ गौड़ दास ने कर्मकांड की विधि संपन्न कराई। सभी महिला श्रद्धालु थीं। लोकनाथ गौड़ दास ने बताया कि ये महिला श्रद्धालु इटली, जर्मनी और रूस के हैं। सभी ने देवघाट, विष्णुपद मंदिर परिसर एवं सूर्यकुंड में कर्मकांड किया। शुक्रवार को प्रेतशिला, रामशिला एवं कागबली पिंडवेदी पर कर्मकांड करेंगे। वहीं, शनिवार को अक्षयवट में सुफल का आशीर्वाद प्राप्त कर अपने देश लौट जाएंगे। देवघाट पर कर्मकांड करने बाद फल्गु के पवित्र जल से तर्पण किया है।

विदेशी श्रद्धालु यूलियाना, एलोनयारा, एलेना, रिटा, सैफिस बताती हैं, उन्हें उनके धर्मगुरु ने पिंडदान का महत्व बताया है। उसके बाद सभी गयाजी पिंडदान करने के लिए आए हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप