संवाद सहयोगी, दाउदनगर (औरंगाबाद) : दाउदनगर अनुमंडल के ओबरा प्रखंड अंतर्गत नौनेर गांव में मंगलवार की दोपहर अगलगी की घटना में करीब दो दर्जन घर जलकर राख हो गए। घटना में 11 वर्षीय बच्ची की भी झुलसकर मौत हो गई। एक गाय समेत करीब 10 मवेशी भी जलकर मर गए।

सब कुछ जलकर हो गया राख

घटना इतनी भयावह थी कि दिलेश्वर राम, बेसलाल राम, शिवपूजन राम, बुधन, दिलबर, चंदन, विशाल, कामेश्वर राम, सुबोध राम, कृष्णा राम, योगेश, धनेश राम, मोतीराम, अवधेश राम, भुअर राम, नंद पासवान, उमेश राम व नीरज पासवान के घर का एक भी सामान नहीं बचा। सब कुछ जलकर राख हो गया। सूचना पर करीब घंटे भर बाद दमकल की टीम पहुंची। तब तक ग्रामीण आग पर काबू पाने की कोशिश करते रहे। 

अग्निशमन विभाग ने पाया आग पर काबू

अग्निशमन विभाग के कर्मियों के पहुंचने के बाद आग पर काबू पाया जा सका। घटना के संबंध में बताया जाता है कि दाउदनगर-बारुण रोड स्थित अनुमंडल मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर दूर सड़क से तीन किलोमीटर पश्चिम सोन के तट पर नौनेर मेंहरिजन टोली है। दोपहर में कचरे के ढेर से उड़ी एक चिंगारी के कारण अगलगी की घटना हुई। आग की लपटें इतनी तेज थी कि देखते ही देखते झोपड़ी और खपरैलनुमा दो दर्जन घरों को अपनी चपेट में ले लिया।

घर में बाहर से बंद था ताला, भाग न सकी पिंकी

एक घर में बाहर से बंद होने के कारण पिंकी कुमारी भाग न सकी। जलने से उसकी मौत हो गई। वह ओबरा के गैनी गांव की रहने वाली थी। नौनेर में दिलबर राम के घर आई हुई थी। हालांकि कमरा कैसे बंद हुआ, इसका पता नहीं चल सका। पीड़ित सभी परिवार अनुसूचित जाति के बताए जाते हैं। घटना की सूचना के बाद मौके पर ओबरा अंचल अधिकारी और थानाध्यक्ष पहुंचे। देर शाम तक क्षति का आंकलन किया जा रहा था।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021