टनकुप्पा (गया), संवाद सूत्र। गया जिले के टनकुप्पा प्रखंड के ढीवर पंचायत के नौवाखाप निवासी दुखन मांझी का  डायरिया से पीड़ित 21 वर्षीय पुत्र विकास कुमार की मौत शनिवार को घर पर हो गयी। युवक की 12 वर्षीय बहन नीतु कुमारी की मौत बीते सोमवार को डायरिया से हो गयी थी। विकास कुमार उसी समय से डायरिया से बुरी तरह पीडि़त था। उसका इलाज फतेहपुर में एक निजी चिकित्सालय में चल रहा था। चार दिन पूर्व युवक की हालत में सुधार नहीं होने पर मगध मेडिकल कालेज ले जाया गया। वहां उसका इलाज चल रहा था। 

मृतक के पिता दुखन मांझी ने बताया कि अधिक दिनों से डायरिया से पीड़ित होने के कारण विकास के किडनी में प्रॉब्लम हो गया।  यह जानकारी मेडिकल कालेज में चिकित्सक द्वारा जांच के बाद दी गई थी। स्वस्थ्य में सुधार नही होने पर शुक्रवार को मेडिकल कालेज से युवक को घर ले आया गया। शनिवार की सुबह में उसकी मौत हो गई।

बता दें बीते सोमवार को गांव में डायरिया फैलने से आधा दर्जन से अधिक लोग पीड़ित हो गये थे। स्वजनों ने पीड़ित लोगों का इलाज फतेहपुर में कराया, जिसमें से कई मरीज ठीक भी हुए। स्थानीय सरकारी चिकित्सकों को डायरिया फैलने की जानकारी मिलने पर राहत प्रदान करते हुए पीड़ित लोगों का इलाज किया। फिलहाल गांव में डायरिया का प्रकोप सामान्य हो गया है। गांव में संक्रमण कम करने के लिए ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कराया गया है।

घटना की जानकारी पाकर पंचायत की मुखिया बेबी कुमारी ने मृतक के स्वजनों से मिकलर सांत्‍वना देते हुए कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत दाह संस्कार के लिए मदद दी। एक सप्ताह में एक घर से दो की मौत हो जाने से स्वजनों में कोहराम मच गया है। स्वजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है। मृतक की मां रोने से बेहोश हो जा रही है।

Edited By: Sumita Jaiswal