वारिसलीगंज (नवादा), संवाद सूत्र । कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम को ले सरकार द्वारा अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीनेट करने की मुहिम चलाई जा रही है। इसके लिए छह महीना में छह करोड़ बिहार वासियों को टीका लगा देने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सोमवार से वारिसलीगंज में टीकाकरण महाअभियान की शुरुआत की गई। महाभियान के प्रथम दिन ही प्रखंड के सभी 26 केंद्रों पर 12 बजे तक टीका समाप्त हो जाने के कारण चार घंटा पहले ही वैक्सीनेशन कार्य बंद हो गया।

  वैक्सीन समाप्त हो जाने की सूचना मिलने के बाद टीका लेने के लिए सुबह से ही लाइन में खड़े लोगों में नाराजगी दिखी। एसएन सिन्हा कालेज केंद्र पर हंगामा की नौबत आ गई। असंतोष की सूचना के बाद वरीय उप समाहर्ता राजवर्धन, बीडीओ सत्यनारायण पंडित, नगर परिषद के कार्यपालक उपेंद्र कुमार सिन्हा, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ आरती अर्चना मौके पर पहुंचकर लोगों को समझा बुझा कर शांत कराया। जिला से 25 अतिरिक्त भायल टीका मंगवा कर बचे हुए लोगों को लगाया गया। फिर भी लक्ष्य से पिछड़ गया। वरीय उप समाहर्ता ने बताया कि जिला में कम टीका उपलब्ध होने के कारण समस्या उत्पन्न हुई है। अगले दिन फिर टीका लगाया जाएगा।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से वैक्सीनेशन की रफ्तार कम रहने के कारण पंचायत प्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारियो, स्वास्थ्य कर्मियों आदि के द्वारा व्यापक प्रचार प्रसार व जागरूकता अभियान चलाया गया। सरकार द्वारा टीकाकरण के निर्धारित लक्ष्य की प्राप्ति को ले महाअभियान के प्रथम दिन प्रखंड क्षेत्र के 26 केंद्रों पर 2600 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य तय किया गया था। लक्ष्य की शतप्रतिशत प्राप्ति के लिए प्रखंड के सभी विभागों के अधिकारियों को जिम्मा दिया गया था। परंतु वैक्सीन की कमी हो गई। फलत: प्रखंड के सभी केंद्रों पर टीकाकरण बंद हो गया।

एक सप्ताह के अंदर सभी नियोजित शिक्षक लगा लें कोरोना वैक्सीन : संघ

नरहट प्रखंड में बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रखंड प्रतिनिधि रविन्द्र पाण्डेय ने सोमवार को एक विशेष संवाद कर सभी नियोजित शिक्षकों से कोरोना टीका लगवाने की अपील की है। कहा कि कोरोना का असर कम हुआ है समाप्त नहीं हुआ है। विश्व के लाखों लोग इस महामारी के शिकार हुए हैं। हमलोगों ने भी काफी संख्या में अपने मित्रों को कोरोना के कारण खोया है। अब जब कोरोना वैक्सीन आसानी से प्रखंड के कई चिन्हित स्थलों पर 18 वर्ष से उपर के लोगों को लगाया रहा है तो लोग लापरवाही बरत रहे हैं, यह अच्छी बात नहीं है। अब देर करने की आवश्यकता नहीं है। जो शिक्षक किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं वे अपने चिकित्सक से सलाह लेकर ही टीका लगवाएं। शेष सभी शिक्षक अविलंब टीका लगाकर फोटो संघ के ग्रुप में भेजें। साथ ही साथ अभिभावकों को यह फोटो दिखा कर प्रेरित करें।

1029 लोगों को लगा टीका

गोविंदपुर प्रखंड में विशेष कोविड टीकाकरण अभियान में सोमबार को 1029 लोगों को टीका लगाया गया। अभियान की देख रेख बीडीओ कुंजबिहारी सिंह व चिकित्सा प्रभारी डॉ अर्जुन चौधरी ने किया।

इधर सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में चिकित्सक सह कोविड के नोडल पदाधिकारी डॉ जफर इमाम ने बताया कि प्रखंड में लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। कुल 1029 लोगो को कोविड का टीका पड़ा,जो सफल माना जाएगा। भवनपुर पंचायत के दो केंद्र हारना बेला आंगनबाड़ी केंद्र पर 70 लोगों को वैक्सीन लगा।खैरा खुद पुस्तकालय भवन में 70 लोंगो को टीका दिया गया।

कौआकोल में टीका घटा तो उबले लोग, 1020 लोगों का टीकाकरण

कौआकोल प्रखंड क्षेत्र के कई वैक्सीनेशन सेंटरों पर डीलरों, शिक्षकों, आशा कार्यकर्ताओं तथा आंगनबाड़ी सेविकाओं को उस वक्त आम लोगों का कोपभाजन का शिकार होना पड़ा,जब काफी संख्या में लोग वैक्सीन की कमी के कारण बिना टीका लगवाए ही लौट गए। टीका महाभियान को लेकर जनवितरण दुकानदारों,शिक्षकों,आंगनबाड़ी सेविकाओं तथा आशा कार्यकर्ताओं को लोगों के बीच जागरुकता अभियान चलाकर ग्रामीणों को प्रेरित कर उन्हें वैक्सीनेशन सेंटरों पर लाकर टीका लगवाने का निर्देश जारी किया गया था। सभी सेंटरों पर काफी संख्या में लोगों को जुटा दिया। लेकिन, लोगों की उपस्थिति की अपेक्षा वैक्सीन की उपलब्धता काफी कम थी। कौआकोल पीएचसी के प्रभारी डा. रामप्रिय सहगल ने बताया कि सेंटरों पर उपलब्ध वैक्सीन की मात्रा से लोग ज्यादा पहुंच गये थे। फिर भी सोमवार को 1020 लोगों को कोरोना का डोज दिया गया।

Edited By: Sumita Jaiswal