पटना [जेएनएन]। शिक्षा व्यवस्था को लेकर मची किरकिरी और पूरी व्यवस्था को सुधारने की चल रही कवायद के बीच गया के आमस थानाक्षेत्र अंतर्गत स्थित सुग्गी हाई स्कूल में मैट्रिक की परीक्षा से पहले दसवीं की टेस्ट परीक्षा ली जा रही है।

स्कूल के छात्र खुले मैदान में गेस पेपर लेकर साथियों के साथ परीक्षा दे रहे है, लेकिन, कोई देखने वाला नहीं है। दर्जनों छात्र कॉपी व प्रश्न पत्र के साथ स्कूल परिसर से बाहर मैदान में बैठकर परीक्षा देते मिले। वे गेस पेपर और किताब खोलकर प्रश्नों के उत्तर लिख रहे थे। शिक्षक कॉपी व प्रश्न पत्र देकर बेफिक्र थे। लगता था जैसे उन्हें परीक्षा से कोई मतलब ही नहीं।

मैदान में छात्र कई टोलियों में बैठकर परीक्षा देते नजर आए। बोर्ड के नियमों के मुताबिक बोर्ड परीक्षा से पहले इसी टेस्ट परीक्षा के आधार पर छात्र मैट्रिक का फॉर्म भरते हैं। फेल परीक्षार्थियों को मैट्रिक परीक्षा का परीक्षा फॉर्म नहीं भरने दिया जाता है।

पढ़ें - बिहार बोर्ड की परीक्षा में पुराने रिकार्ड होंगे ध्वस्त

बोर्ड दारा आयोजित मैट्रिक और इंटर की परीक्षा को लेकर बिहार सरकार की काफी किरकिरी हो चुकी है। शिक्षा विभाग ने बेहतर तरीके से परीक्षा संचालित करने के कड़े निर्देश जारी किए हैं। इस मामले में सुग्गी हाई स्कूल के प्राचार्य विश्वनाथ कांत से बात करने की कोशिश की गई। लेकिन, उनसे संपर्क नहीं हो सका।

पढ़ें - GOOD NEWS : बिहार बोर्ड ने बढ़ाई इंटर परीक्षा की रजिस्ट्रेशन तिथि

इधर परीक्षा संचालित करा रहे शिक्षकों ने बताया कि छात्र बेहद उदंड हैं। कई बार मना करने के बाद भी कॉपी और प्रश्न पत्र लेकर बाहर चले जा रहे हैं। एेसा कहकर उन्होंने अपना पल्ला झाड़ लिया।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस