गया : विष्णुपद मंदिर की सुरक्षा को अभेद्य रखने को लेकर बिहार एटीएस के जवानों ने गुरुवार की देर रात तक माक ड्रील किया। बिहार एटीएस के जवान अत्याधुनिक हथियारों से लैस थे। जिन्हें विष्णुपद मंदिर में आतंकी छुपे रहने की सूचना मिली थी। उसी सूचना के आधार पर बिहार एटीएस के जवानों ने मंदिर के कोना-कोना में मोर्चा संभाला। मोर्चा संभालने के बाद मंदिर परिसर में संदिग्ध वस्तु दिखाई दी। संदिग्ध वस्तु की बम होने की संभावना थी। जिसे जवानों ने मेटल डिटेक्टर से जांच की। जांचोपरांत जवान जब आश्वस्त हो गए कि बम नहीं है। जांच आगे बढ़ी। जवानों ने मंदिर के गर्भगृह से लेकर अन्य सभी प्रवेश व निकास द्वार को सील किया। जहां आतंकी को गन प्लाइंट पर लिया गया। पूरा माक ड्रील अंधेरी रात में किया गया। जहां मंदिर परिसर के सभी लाइट और कैमरे को बंद कर दिया गया था। बताया जाता है कि विष्णुपद मंदिर परिसर में करीब चार से पांच घंटे तक माक ड्रील चला।

वरीय पुलिस अधीक्षक आदित्य कुमार ने बताया कि मंदिर की सुरक्षा का जायजा लेने के लिए माक ड्रील किया गया। इसमें बिहार एटीएस के जवान शामिल हुए थे। मंदिर की पूरी सुरक्षा चाक-चौबंद रहेगी। सुरक्षा का जायजा लेने के लिए समय-समय पर माक ड्रील होगा। फिलहाल मंदिर की सुरक्षा बिहार पुलिस के जिम्मे है।

जानकारी हो कि कोरोना संक्रमण को लेकर मंदिर बंद है। बंद मंदिर को खुलवाने के बाद पूरी पवित्रता के साथ-साथ नंगे पांव जवानों ने माक ड्रील किया।

युवक की संदेहात्मक मौत : बोधगया के गाफा खुर्द गांव के एक युवक की मौत इलाज के दरम्यान मगध मेडिकल में होने के बाद पिता ने हत्या का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को मुफस्सिल थाना में आवेदन दिया है। अमीर सिंह ने पुलिस के समक्ष कहा कि पुत्र इशु कुमार की शादी मानपुर के कुम्हार टोली मोहल्ले में राजेश सिंह की पुत्री निशा कुमारी के साथ वर्ष 2000 में हुई थी। 27 जुलाई को घर से ससुराल के लिए निकला था। उसके बाद घायल अवस्था में मेडिकल में भर्ती मिला। प्रभारी थानाध्यक्ष ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट होगा कि युवक की मौत कैसे हुई है।

Edited By: Jagran