ब्रजेश पाठक, सासाराम (रोहतास)। चिकित्सा विज्ञान में कहा गया है कि किसी रोग का कारण, भयावहता तभी पता चलता है जब उसकी विधिवत जांच हो। मेडिकल साइंस में इसके लिए मानक डिग्री निर्धारित की गई है। रोहतास जिले में अधिकांश मरीज इस लिए ठीक नहीं हो पाते कि उनकी जांच सही होती ही नहीं। हो भी तो कैसे, यहां 60 फर्जी जांच घर (Illegal Diagnostic Center) संचालित हो रहे हैं। यह बात हम नही बल्कि जिले के सिविल सर्जन खुद जांच करने के बाद कह रहे हैं। हालांकि फर्जी जांच घरों पर कार्रवाई के लिए आदेश अभी फाइलों तक सीमित है। 

136 में 60 जांच घर मिले अवैध

डीएम धर्मेंद्र कुमार के निर्देश पर जिले में कुल संचालित 136 डायग्नोस्टिक सेंटरों की जांच की गई जिसमे 76 वैध व 60 अवैध पाए गए। अवैध डायग्नोस्टिक सेंटरों में जांच करने के लिए न तो निर्धारित योग्यता वाले चिकित्सक या टेक्नीशियन ही हैं न ही पर्याप्त जांच उपकरण। जांच के नाम पर खानापूर्ति कर मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ की जा रही है। इन डायग्नोस्टिक सेंटरों में न केवल खून, मल मूत्र की जांच हो रही है बल्कि अल्ट्रासाउंड व एक्सरे भी किया जा रहा है। खास यह कि ऐसे सेंटर सुदूर प्रखंडों में ही नहीं बल्कि जिला व अनुमंडल मुख्यालय में भी धड़ल्ले से चल रहे हैं। सिविल सर्जन डॉ सुधीर कुमार का कहना है कि जिले में 60 अवैध जांच घरों को चिह्नित कर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को दिया गया है। उनसे कार्रवाई रिपोर्ट की मांग की जा रही है। वही डीएम धर्मेंद्र कुमार ने कहा कि फर्जी ढंग से डायग्नोस्टिक सेंटर चलाने वालों व उन्हे प्रश्रय देने वालों पर कार्रवाई होगी।

 

यहां चल रहे अवैध डायग्नोस्टिक सेंटर 

स्थान       संख्या

  • सासाराम            9
  • करगहर              9
  • दिनारा                6
  • कोचस                7
  • रोहतास              2
  • संजौली               1
  • काराकाट             1
  • अकोधीगोला        4
  • नसरीगंज            2
  • बिक्रमगंज         12
  • नौहट्टा               2
  • तिलौथू                2
  • नोखा                  2
  • राजपुर               1

कुल    60

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021