फोटो-

-24 प्रखंडों में कैंप मोड में बनाया गया कार्ड

-अब तक 76 हजार लोगों के बने हैं कार्ड

-पाच लाख रुपए तक का इलाज कराने की है सुविधा जागरण संवाददाता,गया:

आयुष्मान भारत योजना के तहत जिले में गोल्डन कार्ड बनवाने वाले लोगों की संख्या में इजाफा हुआ है। जिले में 16 से 30 अक्टूबर के बीच 19 हजार गोल्डन कार्ड बनवाए गए हैं। 16 अक्टूबर से पहले जिले में गोल्डन कार्डो की संख्या 57 हजार थी।

जिला कार्यक्रम पदाधिकारी नीलेश कुमार ने बताया कि शिविर लगाकर जिले के 24 प्रखंडों में गोल्डन कार्ड बनवाये जाने के बाद संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। इसका सीधा लाभ गरीब तबके के लोगों को आसानी से मिल सकेगा। इससे पाच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज कराया जा सकता है।

----------

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत अधिकतम गोल्डन कार्ड बनाने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रखंड स्तर पर पंचायतवार शिविर लगाकर गोल्डन कार्ड बनाने का काम किया गया है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत बीपीएल परिवारों का गोल्डन कार्ड बनवाया गया। साथ ही इसके बारे में प्रचार प्रसार भी लगातार किया जा रहा है।

-----------

----------

कार्ड बनवाना हो तो रखें ध्यान :

आयुष्मान भारत योजना के तहत गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए जरूरी कागजात जैसे राशन कार्ड एवं आधार कार्ड होना जरूरी है। यदि आयुष्मान योजना का लाभ लेने के लिए गोल्डन कार्ड बनाना है तो इस बात का ध्यान रखें कि अपने राशन कार्ड को आयुष्मान योजना में शामिल डाटा से जरूर मिला लें। आपके राशन कार्ड के नाम आयुष्मान योजना के डाटा में नहीं होने की स्थिति में गोल्डन कार्ड नहीं बन पाएगा। नाम होने पर ही गोल्डन कार्ड के लिए पंजीकरण किया जा सकेगा। गोल्डन कार्ड के संबंध में अपने क्षेत्र की आशा कार्यक‌र्त्री से भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। साथ ही जनसेवा केंद्रों व आयुष मित्रों से गोल्डन कार्ड बनाने की प्रक्रिया की जानकारी ले सकते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस