जेएनएन, गया। जिले की दस सीटों पर प्रथम चरण में मतदान हो चुका है। नेताओं के भाग्‍य ईवीएम में कैद हो चुके हैं। इसके साथ ही परिणाम को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। चौक-चौराहों पर परिणाम भी तय होने लगे हैं। इस बीच नेताओं की धड़कनें बढ़ गई हैं। इधर जिला प्रशासन ईवीएम की सुरक्षा समेत अन्‍य व्‍यवस्‍था में जुट गया है। डीएम ने गुरुवार को वज्रगृह का निरीक्षण किया। सुरक्षा इंतजाम का जायजा लिया।

जिले में मतदान समाप्ति के बाद सभी 4430 बूथों की ईवीएम, वीवी पैट, पिठासीन अधिकारी की डायरी व अन्य समान को वज्र गृह सह मतगणना कक्ष में कड़ी निगरानी में रखा गया है। मतगणना को लेकर गया कॉलेज, जगजीवन कॉलेज, अनुग्रह मेमोरियल कॉलेज को वज्र गृह बनाया गया है। यहां अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है। ईवीएम हॉल से लेकर पूरे मतगणना परिसर में जगह-जगह सीसीटीवी कैमरा लगा दिए गए हैं। अनाधिकृत किसी भी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक लगाई गई है। सभी केंद्रों पर मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं।  जिलाधिकारी अभिषेक सिंह गुरुवार की सुबह में मतगणना केंद्रों का निरीक्षण करने के लिए निकले। उन्‍होंने वहां सभी व्‍यवस्‍था का जायजा लिया और अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

गौरतलब है कि अभी दो चरण का मतदान शेष है। दूसरे चरण में तीन नवंबर एवं तीसरे चरण में सात नवंबर को भी मतदान होना है। मतों की गिनती 10 नवंबर को की जाएगी। इस कारण से प्रथम चरण में जहां मतदान हुए हैं, वहां के प्रत्‍याशियों समेत आम लोगों को भी परिणाम के लिए करीब पंद्रह दिनों का इंतजार है। फिलहाल मतदान प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब सभी प्रत्याशियों को चुनाव नतीजे जानने की उत्सुकता है। कईयों की धुकधुकी बढ़ गई है। खास करके वैसे प्रत्याशी जिनका विरोधियों से कड़ा मुकाबला माना जा रहा है उनके माथे पर बल पड़े हुए हैं। वे जगह-जगह से अपने कार्यकर्ताओं से फीडबैक ले रहे हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस