संवाद सहयोगी, बिक्रमगंज (सासाराम)। स्थानीय थाना क्षेत्र के तेंदुनी चौक पर शुक्रवार की शाम  सासाराम से आरा जा रही एक बस को रोकवाकर जांच की। उसमें यात्रा कर रहे एक युवक के पास से पांच सौ जिंदा कारतूस बरामद किया गया। पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर कड़ाई के साथ पूछताछ की है। जिसके बाद कई अन्य हथियार तस्करों व खरीदारों का नाम सामने आया है। पुलिस हथियार तस्करों के नामों की जांच कर उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी है। गिरफ्तार तस्कर मो. मुस्ताक आलम पटना जिला के बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के मोगलबिगहा गांव का निवासी है। पंचायत चुनाव के ठीक पहले भारी मात्रा में कारतूस बरामद होने के बाद प्रशासन आसूचना तंत्र को और सक्रिय कर दिया है।

एसपी आशीष भारती ने बताया कि बिक्रमगंज के तेंदुनी चौक से पुलिस अवर निरीक्षक संजीव कुमार के नेतृत्व में पुलिस बल ने एक बस में तलाशी के  दौरान 500 जिंदा कारतूस बरामद किया। यह कारतूस सासाराम से पटना जिला के बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के मोगलपुराबिगहा निवासी मुस्ताक आलम एक स्काई बैग में ले जा रहा था। पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया है। एसपी ने बताया कि पंचायत चुनाव को लेकर वाहन चेकिंग अभियान पुलिस लगातार चला रही है। पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि एक युवक सासाराम से भारी मात्रा में कारतूस लेकर आरा जाने वाली बस में सफर कर रहा है। सूचना मिलते ही पुलिस ने बस को रोकवा युवक के बैग की तलाशी ली। जिसमें 0.315 बोर (आठ एमएम) की 300, 0.32  बोर की 200  कुल 500 जिंदा कारतूस बरामद किया गया।

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार युवक ने अपने सहयोगियो का नाम बताया है। इसमें शामिल उसके सहयोगियों की गिरफ्तारी को पुलिस की विशेष टीम गठित की गई है । टीम संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। उन्होंने कहा कि अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद ही यह पता चलेगा की किस प्रयोजन से और कहां से गोली की खरीद की गई। पंचायत चुनाव से पूर्व हुई भारी मात्रा में कारतूस की बरामदगी पुलिस के लिए बहुत बड़ी सफलता मान रही है। प्रेस कांफ्रेंस में बिक्रमगंज के एसडीपीओ शशिभूषण कुमार सिंह, पुलिस निरीक्षक सह थानाध्यक्ष मनोज कुमार, पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सहित कई अधिकारी उपस्थित थे।

Edited By: Prashant Kumar