गया, जागरण संवाददाता।   जिले भर में बीते 24 घंटे के अंदर हुई तेज बारिश व आंधी से जनजीवन प्रभावित हुआ। सबसे ज्यादा असर बिजली आपूर्ति व्यवस्था पर पड़ी। भारी बारिश के कारण फल्‍गु में भी उफान रहा। शुक्रवार की देर रात करीब एक बजे से गुल हुई बिजली अनेक इलाकों में शनिवार को दोपहर 1 बजे तक बाधित रही। चांदचौरा सबडिवीजन के दंडीबाग, घुघड़ीटाड़ इलाके में 10 घंटा से अधिक तक बत्ती गुल रही। कुछ यही हाल छोटकी नवादा, काटन मील, खरखुरा, डेल्हा इलाके में भी रहा। इन इलाकों में दिन में सुबह के समय में बिजली बार-बार ट्रीप कर रही थी। बिजली नहीं रहने से अनेक घरों में पानी का संकट हुआ। घरेलू काम को निपटाने में गृहिणीयों को दिक्कत आई।

इधर, बिजली विभाग की रिपोर्ट में गया शहरी क्षेत्र में 30 जगहों पर पेड़ गिरे। 35 पोल व उससे जुड़े बिजली के तार क्षतिग्रस्त हो गए। विद्युत कार्यपालक अभियंता, शहरी दीपक कुमार ने बताया कि अनेक जगहों पर पेड़ गिरने और बारिश की वजह से तकनीकी फाल्ट के कारण आपूर्ति में दिक्कत आई। विभाग के अभियंता समेत करीब 200 कर्मी देर रात से ही लाइन को ठीक करने में जुटे थे। दिन में 1 बजे तक कुछ जगहों को छोड़कर सभी जगहों पर लाइन सामान्य हो गई थी।

इन जगहों पर गिरे पेड़

33 केवी दंडीबाग- 8 पेड़

33 केवी पंचायती अखाड़ा- 3 पेड़

33 केवी गांधी मैदान- 2 पेड़

7 नंबर फीडर-3 पेड़

एपी कॉलनी-तीन पेड़

हनुमान नगर- 1 पेड़

खिरियावां फीडर-3 पेड़

नैली फीडर-2 पेड़

6 नंबर फीडर-5 पेड़

बीते 24 घंटे में 42.7 एमएम रिकार्ड हुई बारिश, 42 फीसद रोपाए धान

 जिले में बीते 24 घंटे के अंदर 42.7 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। शुक्रवार की पूरी रात तेज हवा के साथ जबर्दस्त बारिश हुई। बारिश का दौर सुबह 12 बजे तक जारी रहा। मौसम पूरी तरह से बरसात के जैसा हो गया है। तेज बारिश व आंधी से अधिकतम तापमान नीचे आ गया है। गर्मी से लोगों को राहत मिली है। इधर, बारिश से जहां जनजीवन प्रभावित हुआ। वहीं खेतीबारी को लाभ पहुंचा है। बारिश से धान की रोपनी में तेजी आ गई है। गया जिले में अभी तक 42.33 फीसद धान की रोपनी हो गई है। जिले में इस साल 1.51 लाख हेक्टेयर में धान की खेती का लक्ष्य है। अब तक 63886 हेक्टेयर में रोपनी हो गई है।

जिले में धान रोपनी का लक्ष्य- 1.51 लाख हेक्टेयर

अब तक लगे धान- 63886 हेक्टेयर

जुलाई में कुल बारिश: 218.7 मिमी.

जुलाई में सामान्य वर्षापात- 298.1 एमएम

 

Edited By: Sumita Jaiswal