चैनपुर ( कैमूर), संवाद सूत्र। कहते हैं न ' जाको राखे सांईयां मार सके ना कोय। ' एक बार फिर यह कहावत पूरी तरह सच साबित हुई है। दरअसल, चैनपुर थाना क्षेत्र के  ग्राम मंझुई वार्ड संख्या 12 में शनिवार की सुबह एक बड़े हादसे में एक लड़की बाल-बाल बच गई।  वह लड़की अपने घर में खाना बना रही थी। खाना बनाने के क्रम में वह जैसे ही घर से बाहर कुछ काम से निकली अचानक मिट्टी और फूस का बना पूरा मकान भरभराकर गिर पड़ा। कुछ ही मिनट की देरी होती तो लड़की के उपर ही घर गिर जाता और फिर कोई भी अनहोनी हो सकती थी।

मिली जानकारी के अनुसार ग्राम मंझुई के वार्ड संख्या 12 में स्व. संता राम की पत्नी सोमरी कुंवर अपनी नाबालिग पुत्री के साथ रहती हैं। शनिवार की सुबह सोमारी कुंवर की सबसे छोटी पुत्री गीता कुमारी घर में खाना बना रही थी। जबकि वृद्ध मां घर के बाहर थी। अचानक कुछ काम के कारण नाबालिग गीता कुमारी घर के बाहर निकली। दरवाजे से चार कदम ही आगे बढ़ी थी कि अचानक पूरा घर भरभरा कर नीचे गिर गया। जिस वजह से मकान के मलबे के नीचे खाद्य सामग्रियों में आटा, चावल, सहित गीता के विवाह के लिए थोड़े-थोड़े खरीद कर जुटाया गया सामान तीन हजार रुपए नकद सहित बिछावन, खाट आदि सभी उसी मलबे के नीचे दब गए हैं। बताया जाता है कि लगातार बारिश के कारण मिट्टी का मकान कमजोर होकर ध्‍वस्‍त हो गया ।

मकान गिरने की तेज आवाज सुन के स्थानीय लोग तत्काल दौड़कर मौके पर पहुंचे । इस संबंध में चैनपुर सीओ पुरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि मकान गिर कर ध्वस्त होने की सूचना मौखिक रूप से प्राप्त हुई है। हल्का कर्मचारी से उक्त स्थल की जांच कराई जाएगी। आवेदन प्राप्त होने के उपरांत सरकारी प्रावधान के अनुसार मुआवजा दिया जाएगा।

 

Edited By: Sumita Jaiswal