जागरण संवाददाता, सासाराम। सासाराम नगर परिषद वर्तमान में उत्क्रमित नगर निगम के कार्यपालक पदाधिकारी अभिषेक आनंद नगर निकाय का काम करने के लायक नहीं हैं। शहर में जल जमाव से स्थिति खराब हो गई है। मानसून के बारिया के बाद मोहल्लों में और जल जमाव होगा जिससे विधि व्यवस्था की स्थिति भी बिगड़ेगी। इन्हें जल्दी से यहां से हटाएं ये नाकाम साबित हो रहे हैं।

यह आरोप किसी नगर पार्षद या आम लोगों ने नहीं, बल्कि रोहतास के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार का है, जिन्‍होंने नगर विकास एवं आवास  विभाग के प्रधान सचिव से कार्यपालक पदाधिकारी (Executive Officer) के स्थानांतरण का त्राहिमाम संदेश पत्र के माध्यम से भेजा है। डीएम ने प्रधान सचिव को भेजे पत्र में कहा है कि अभिषेक आनंद जब से योगदान ईओ के रूप में किए हैं तब से वे अपने कर्तव्य का निर्वहन सही ढंग से नहीं कर रहे हैं।

मुख्य पार्षद से विविध विकासात्मक व स्वच्छता के कार्यों को ले टकराव की स्थिति कायम किए हैं। नगर निकाय के निर्वाचित जन प्रतिनिधियों के साथ टकराव के कारण यहां विकास व स्वच्छता का कार्य ठप पड़ा हुआ है। गतिरोध को दूर कराने के लिए वे खुद समझाने का प्रयास किए लेकिन कार्यपालक पदाधिकारी परिस्थितिजन्य स्थिति को नहीं समझ गतिरोध को दूर करने में असफल रहे। यास चक्रवात के कारण हुई भारी बारिश से शहर के अधिकांश मोहल्लों में जलजमाव हुआ। जिससे लोगों में आक्रोश भी बढ़ा। उस समय भी वे डीडीसी से स्थिति को नियंत्रित कराया।

अब मानसून का प्रवेश हो चुका है तथा वर्षा भी होने लगी है। अबतक शहर के नालों की उड़ाही, सफाई व अन्य कार्य नहीं होने से शहर में जलाक्रांत होने की प्रबल संभावना है। जिससे विभिन्न प्रकार की समस्या व विधि व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न करेगा। डीएम ने पत्र में कहा है कि ईओ के कार्यकलाप की सूचना वे पूर्व में भी विभाग को दिए हैं। प्रधान सचिव से अभिषेक आनंद को तत्काल हटाने का अनुरोध किया है।

Edited By: Prashant Kumar