गया, जेएनएन। औरंगाबाद सदर अस्पताल में शुक्रवार की सुबह अजीबोगरीब घटना घट गई। प्रसव बाद दो महिलाओं के बच्चा और बच्ची की अदला-बदली हो गई। इसके बाद सदर अस्पताल में हड़कंप मच गया।

बबीता ने लड़की को दिया था जन्म

हुआ यूं कि नवीनगर प्रखंड के माली थाना के भरकुरिया गांव निवासी बबीता कुमारी शुक्रवार की सुबह लगभग 7 बजकर 17 मिनट पर एक लड़की को जन्म दी। वहीं इसी दौरान सदर प्रखंड के नगर थाना क्षेत्र के जगजीवन नगर निवासी कुसुम देवी ने भी शुक्रवार की सुबह ही 7 बजकर 5 मिनट पर एक लड़का को जन्म दिया। दोनों महिला प्रसव के दौरान एक ही वार्ड में भर्ती थी। दरअसल दोनों महिलाओं का प्रसव सामान्य प्रकिया से हुआ था। इसलिए कुछ घंटों के बाद चिकित्सकों ने अस्पताल से दोनों की छुट्टी कर दी। इसी बीच लड़की को जन्म देने वाली राहुल पासवान की पत्नी बबीता कुमारी को अस्पताल कॢमयों ने कुसुम देवी का लड़का दे दिया।

कुसुम को दी गई बबीता की बेटी

लड़का जनने वाली नीरज राम की पत्नी कुसुम देवी को अस्पताल कर्मियों ने बबीता की बेटी दे दी। जब कुसुम देवी घर पहुंची और बच्ची को देखकर चौंक गई। इसके बाद स्वजन हल्ला करते हुए अस्पताल पहुंच गए। अस्पताल प्रशासन ने छानबीन की तो मालूम हुआ कि बबीता देवी के पास कुसुम का बेटा चला गया। अस्पताल मैनेजर हेमंत राजन ने एक एंबुलेंस कर स्वजनों को बबीता देवी के घर भेज दिया है। खबर जाने होने तक कुसुम का बेटा उसके पास लौटकर नहीं आया था।

क्या कहते हैं सिविल सर्जन

सिविल सर्जन मो. अकरम अली ने बताया कि नवजात के बदले जाने की सूचना मिली है। लापरवाही किस स्तर पर हुई, इसका पता लगाया जा रहा है। दोषी पाए जाने वाले कर्मी पर कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल हंगामा शांत करा एंबुलेंस से कुसुम देवी और उसके स्वजनों को बबीता के घर बच्चा लाने के लिए भेजा गया है। अब तक बबीता ने उसे बच्चा नहीं सौंपा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021