गया । रेडक्रॉस सोसाइटी के सचिव डॉ. डीके सहाय ने कहा कि कोरोना वायरस से डरने की नहीं, लड़ने की जरूरत है। ऐसे वक्त में हर व्यक्ति को चाहिए कि वह अपनी सुरक्षा के साथ समाज की सुरक्षा का भी ध्यान दें। इसके लिए खुद को वायरस से सुरक्षित रखने का काम किया जा सकता है। यह तेजी से फैल रहा है। इससे बचना होगा। इसके लिए आप खुद तैयार हैं।

क्या करें

- हर व्यक्ति नाक छिड़कने, छींकने और खांसने के बाद 20 सेकेंड तक हाथ को अच्छी तरह साबुन से धोएं।

- यदि आप 60 वर्ष या इससे अधिक के हैं। यदि आपको हृदय रोग, श्वास की तकलीफ हो तो आप किसी भी पब्लिक पैलेस पर न जाएं।

- किसी तरह की यात्रा न करें। कोशिश करें कि अपने घर में तीन सप्ताह तक अपने को सुरक्षित रखें।

- जैसा कि ज्ञात होगा कि यह संक्रमण पैनिक हो गया है। इसमें सुधार आने में वक्त लगेगा। अत: पुराने जमाने में बताए गए विधि के अंतर्गत अपनी जरूरत की सारी चीजों का इंतजाम कर लें। परिवार के साथ एकांतवास में रहें। तब तक कि जब तक यह महामारी खत्म न हो जाए।

- सामाजिक दूरी बनाए रखें। भीड़भाड़ वाले जगह में जाने से परहेज रखें। किसी भी व्यक्ति जिसे हल्की खांसी में हों उससे छह फीट की दूरी बनाएं रखें।

- हल्की खांसी-बुखार आने पर घबराएं नहीं और भागकर अस्पताल न जाएं। अपने चिकित्सक से फोन पर सलाह लें।

----

क्या न करें

-अपनी आंख, नाक, मुंह को बार-बार नहीं छूएं। जब तक आपमें कोई लक्षण न हो, तब तक आप मास्क न पहनें।

-आपको हल्की खांसी-बुखार हो तो दवा न करें।

- घबराएं बिल्कुल नहीं। क्योंकि सरकार के द्वारा निर्देशित बातों को फॉलो करने से यह बीमारी आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकता है।

-यदि आपमें फ्लू के लक्षण हैं तो इग्नोर न करें एवं तुरंत चिकित्सक की सलाह लें।

- विदेश में बने खिलौने से बच्चों को न खेलने दें।

- बेवजह बाहर न निकलें और यदि बाहर जाना अति आवश्यक हो तो व्यक्तिगत वाहन का प्रयोग करें।

- यदि आपमें थोड़ा भी लक्षण हो तो अपने परिवार के सदस्य से दूरी बनाए रखें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस