गया । लॉकडाउन के दूसरे दिन बुधवार को लोग अपने घरों के दायरे में सिमटे रहे। गया, नवादा जिले में कमोबेश यही स्थिति रही। ऐसा पुलिस-प्रशासन की सख्ती की वजह से हुआ। बेहद जरूरी होने पर ही लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं। वाहन आदि के साथ बेवजह निकलने वालों को सड़कों पर तैनात पुलिस घर लौटा रही है। यह स्थिति मुख्य सड़कों के अलावा हाट-बाजार की रही। मस्ती में बाइक आदि लेकर बाहर निकल आए युवकों को कई जगह कान पकड़वाकर उठक-बैठक कराया गया। दर्जनों वाहन चालकों से जुर्माने की वसूली हुई। खबरदार करने वाली बात यह कि मुनाफाखोर मौके का नाजायज फायदा उठाने लगे हैं। गया आदि शहरों में सब्जियों की कीमत ड्योढ़ी-दोगुनी हो गई है। राशन की कीमत भी धीरे-धीरे उठान लेने लगी है।

औरंगाबाद में लॉकडाउन के कारण सड़कों पर सन्नाटा रहा। प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने सड़क पर आने-जाने वाले वाहनों पर निगरानी रखी। इस दौरान एक सौ वाहन चालकों को पकड़ा और उनसे लगभग एक लाख रुपये जुर्माना वसूला। डीएम सौरभ जोरवाल व एसपी दीपक वर्णवाल ने स्वयं शहर में भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया।

सासाराम में जगह-जगह बैरिकेडिंग कराई गई है। शहर के पूर्वी छोर शांति प्रसाद जैन कॉलेज, पश्चिम की तरफ बेदा नहर पुल, उत्तर में लालगंज नहर पुल व दक्षिण में कादिरगंज के पास बैरियल लगाया गया है। लॉकडाउन के दौरान सिर्फ आवश्यक सेवा से जुड़े स्वास्थ्यकर्मी, पुलिसकर्मी, बैंककर्मी व मीडिया के लोगों को ही आने-जाने दिया जा रहा था।

भभुआ में अधिकारियों व पुलिस बल ने चॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराया। नगर के एकता चौक पर पुलिस बल तैनात रहा। वाहनों के आवागमन को पूरी तरह रोक दिया गया था। नगर में एसडीएम जन्मेजय शुक्ला, एसडीपीओ अजय प्रसाद ने भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस