गया । कोरोना को लेकर विश्व विख्यात विष्णुपद और महाबोधि मंदिर को आम श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया। विष्णुपद मंदिर 31 मार्च तक और महाबोधि मंदिर अनिश्चितकाल के लिए बंद किया गया है। बोधगया स्थित दायजोक्यो मंदिर और 80 फीट विशाल बुद्ध प्रतिमा को भी 31 मार्च तक बंद रखा जाएगा। हालांकि, रविवार को जनता क‌र्फ्यू के बाद भी बोधगया स्थित अन्य बौद्ध मंदिरों का पट सोमवार को भी बंद रहा। विष्णुपद मंदिर पहुंच रहे तीर्थयात्री मुख्यद्वार के पास हाथ जोड़कर लौट रहे हैं। विष्णुपद प्रबंधकारिणी समिति के सदस्य शंभू लाल बिट्ठल ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण मंदिर को आम श्रद्धालुओं के लिए बंद किया गया है। मंदिर के पुजारी द्वारा सिर्फ भगवान श्रीहरि विष्णु का पूजा-अर्चना की जाएगी। मंदिर के मुख्यद्वार पर पुलिस बल की तैनाती की गई है ताकि मुख्य द्वार पर अनावश्यक श्रद्धालुओं की भीड़ ना हो। शहर के अन्य मंदिरों यथा बंग्ला स्थान के मुख्य द्वार पर ताला लटका है। श्रद्धालुओं के मंदिर में प्रवेश पर रोक है।

पुजारी नागेंद्र मिश्र ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर बंद कर दिया है। श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि इस माहौल में अपने घरों में रहकर मां भगवती को पूजा-अर्चना व आराधना करें। मां मंगलागौरी मंदिर कोरोना को लेकर दो दिनों से श्रद्धालुओं के लिए बंद है। पुजारी लखन गिरि उर्फ लाल बाबा ने कहा कि मंदिर का गर्भगृह में दो दिनों से ताला लटका है। श्रद्धालु बाहर से ही पूजा-अर्चना कर रहे है। वहीं, मां बागेश्वरी मंदिर भी श्रद्धालुओं को लिए बंद कर दिया गया है। श्रद्धालु बाहर से माथे टेक कर घर लौट रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस