गया । कोरोना के संदिग्ध मामले को लेकर बोधगया स्थित बिहार पर्यटन का होटल सिद्धार्थ विहार को क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। यहां 62 लोगों के रहने-खाने और मनोरंजन की व्यवस्था की गई है। गुरुवार को प्रमंडलीय आयुक्त असंगबा चुबा आओ व पुलिस महानिरीक्षक राकेश राठी ने क्वारेंटाइन सेंटर का निरीक्षण किया। आयुक्त को बताया कि बिहार पर्यटन के इस परिसर में सिद्धार्थ विहार के आठ कमरों में दो-दो और सुजाता विहार के नौ कमरों चार-चार लोगों के रहने की व्यवस्था की गई है। आयुक्त ने लॉबी में गार्ड के रहने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए और परिसर स्थित रेस्टोरेंट को एडमिन सेंटर बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी कमरों व शौचालय में बिजली एवं पानी की व्यवस्था दुरुस्त कर लेने का निर्देश होटल मैनेजर को दिया। निरीक्षण के बाद अधिकारी द्वय की अध्यक्षता में एक बैठक बीटीएमसी सभागार में की गई। बैठक में आयुक्त ने कहा कि वैसे संदिग्ध व्यक्ति जिन्हें यह संदेह है कि वे वैसे लोग के संपर्क में रहे हैं, जो कोरोना के संदिग्ध मरीज थे या उन्हें ऐसा लगता है उनमें कोरोना के लक्षण पाए जाने की संभावना हैं तो वे अपने परिवार से अलग क्वारेंटाइन सेंटर में 14 दिनों तक रह सकते हैं। साथ ही यहां स्वास्थ्य विभाग या जिला प्रशासन की जांच में कोई ऐसा पाया जाता है जिसमें कोरोना वायरस के लक्षण की संभावना हैं, उन्हें भी परीक्षण के लिए 14 दिनों तक रखा जाएगा। कोरोना के लक्षण नहीं पाए जाने पर वे घर जा सकते हैं। मेडिकल परीक्षण में पॉजीटिव पाए जाने पर उन्हें ट्रामा सेंटर भेज दिया जाएगा।

-----

आउटसोर्सिग एजेंसी

करेगी व्यवस्था

आयुक्त ने सिविल सर्जन को सेंटर में रहने वाले व्यक्तियों के लिए भोजन, पानी बोतल तथा साफ-सफाई के लिए आउटसोर्सिंग एजेंसी की व्यवस्था एवं पर्याप्त संख्या में मेडिकल एवं पैरामेडिकल स्टाफ की प्रतिनियुक्ति करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सेंटर के कमरों को तीन ग्रुप में विभक्त किया जाए। प्रथम ग्रुप के कमरों को एक से पांच दिन, दूसरे ग्रुप के कमरों को छठे से दसवें दिन तक एवं तीसरे ग्रुप के कमरों में 11 से 14 दिनों तक के लिए चिन्हित किया जाए। इसके अतिरिक्त वृद्ध एवं महिलाओं के लिए अलग गु्रप बनाए जाएं। ताकि नए एवं पुराने संदिग्ध मामले मिक्स अप न हो सके। बैठक को पुलिस महानिरीक्षक राकेश राठी ने भी संबोधित किया।

---

बैठक के बाद मंदिर

का किया निरीक्षण

आयुक्त विश्वदाय धरोहर में कोरोना वायरस के रोकथाम के व्यवस्था को देखा। उन्होंने मंदिर के प्रवेश द्वार पर सुरक्षा कर्मियों द्वारा लेजर थर्मामीटर से किए जा रहे जांच और सैनिटाइजर किए जाने वाले स्थलों को देखा। उन्होंने मंदिर की सीढि़यों के रेलिंग और श्रद्धालुओं के हाथ लगाने वाले स्थानों को बराबर सैनिटाइज करवाते रहने के निर्देश दिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस