मोतिहारी। अरेराज मुख्य बाजार स्थित स्टेट बैंक के पास मंगलवार को सड़क पर शव को रख पीड़ित परिवार के लोगों द्वारा आगजनी कर आवागमन बाधित कर दिया गया। प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी भी की गई। उनका आरोप था कि सोमवार को अतिक्रमण हटाने के दौरान मारपीट की गई जिसमें मिठाई पासवान जख्मी हो गए और इलाज के दौरान मंगलवार को उनकी मौत हो गई। इस बीच घटना के विरोध में बाजार के सभी दुकानें स्वत: स्फूर्त बंद हो गईं। बाजार में खरीददारी के लिए आए लोगों को वापस लौट जाना पड़ा। सूचना पर पहुंचे प्रखंड विकास पदाधिकारी मनोरंजन कुमार पांडेय, पुलिस इंस्पेक्टर सीताराम सिंह, गोविदगंज थाना अध्यक्ष सरफराज अहम्मद, ओपी प्रभारी सुनील कुमार सिंह, जयराम सिंह, सुशील शर्मा, राजीव रंजन आदि ने परिवार वालों को समझाने का प्रयास किया। वहीं, लोजपा के प्रखंड अध्यक्ष रूपेंद्र कुमार, साकेत सिंह, रंटू पांडेय, संजय पासवान आदि ने भी पीड़ित परिवार को समझाया। तब जाकर जाम समाप्त हुआ। इधर, अनुमंडल पदाधिकारी धीरेंद्र कुमार मिश्र ने बताया कि मृतक पहले से पक्षाघात से पीड़ित था। अतिक्रमण हटाने के दौरान किसी प्रकार का बल प्रयोग नहीं किया गया था। इस बीच वार्ड दो के पार्षद एवं उप मुख्य पार्षद भिखारी प्रसाद द्वारा कबीर अंत्योष्टि योजना के तहत पीड़ित परिवार को राशि उपलब्ध कराई गई। वहीं, मृतक के पुत्र ने प्रशासन को आवेदन देकर मुआवजे एवं अतिक्रमण हटाने के दौरान हुई घटना की जांच की मांग की है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप