मोतिहारी। जिला मुख्यालय स्थित राधाकृष्णन भवन में मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रें¨सग के माध्यम से आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका, पर्यवेक्षिका, आशा एवं एएनएम से सीधा संवाद किया। उन्होंने मुख्य रूप से हर घर पोषण त्योहार के क्रियान्वयन के बारे में जानकारी ली। पीएम ने आइसीडीएस द्वारा क्रियान्वित योजनाओं के संबंध में जानकारी लेते हुए इसका लाभ लोगों तक पहुंचाने का निर्देश दिया। कहा कि कई राज्यों ने डिजिटल तकनीक का उपयोग कर व्यवस्था में काफी हद तक सुधार किया है। यह तकनीक योजनाओं के क्रियान्वयन व निगरानी में अहम भूमिका निभा रही है। इस तकनीक को अन्य राज्यों में भी उपयोग कर मुख्य रूप से पोषण व स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त किया जा सकता है। कहा कि स्वास्थ्य का संबध पोषण से जुड़ा हुआ है। बच्चों व गर्भवती महिलाओं का उचित पोषण हो इसका ध्यान रहे। साथ ही समय पर टीकाकरण भी जरूरी है। बेहतर पोषण होने पर ही स्वास्थ्य ठीक रहेगा। आशा एवं एएनएम को भी अपनी भूमिका को ईमानदारी पूर्वक निभाना है। पीएम ने सेविका, सहायिका व आशा को भरोसा दिया कि केंद्र सरकार उनके बारे में सोच रही है। उनके मानदेय को बढ़ाने की दिशा में काम किया जा रहा है। सरकार उनका मुफ्त में बीमा भी कराएगी। यहीं नहीं दुर्घटना में मौत के बार उनके आश्रितों को चार लाख रुपये सरकारी स्तर पर दिए जाएंगे। मौके पर आइसीडीएस डीपीओ प्रतिमा कुमारी, सभी सीडीपीओ, पर्यवेक्षका, एएनएम व सभी संबंधित अधिकारी व कर्मी मौजूद रहे।

सितंबर में होंगे कई प्रकार के आयोजन सितंबर माह में इस कार्यक्रम के तहत होने वाले कार्यक्रमों के माध्यम से आम लोगों तक पहुंचने का मौका मिलेगा। 12 सितंबर से 28 सितंबर तक होने वाले इस आयोजन को हर हाल से सफल बनाने के लिए तैयारी करने को कहा गया।

Posted By: Jagran