मोतिहारी । कृषि विज्ञान केंद्र परिसर में शनिवार को आयोजित काव्यांजलि के माध्यम से देश के सुप्रसिद्ध कवियों ने पूर्व पीएम स्व अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी जयंती पर अपनी श्रद्धा अर्पित की। देश के सुप्रसिद्ध हास्य कवि शम्भू शिखर ने अपनी कविताओं से उपस्थित लोगों को खूब हंसाया तो कई संदेश भी दिए। उन्होंने अपनी प्रसिद्ध पंक्तियां-हम सौ पर भारी एक पड़ें, हम धरती पुत्र बिहारी हैं..सुनाकर पूरे प्रशाल में तालियों की गडगडाहट से गरमाहट ला दी। वहीं मां धरती का इतना दुलारा, न होगा अटल जी जैसा कोई दोबारा सुनागर लोगों के मन मस्तिष्क पर अटल जी के व्यक्तित्व की अमिट छाप छोड़ दी। कार्यक्रम की शुरुआत में दिल्ली से आई पदमिनी शर्मा ने सरस्वती वंदना- सरस्वती वंदे शारदे, जग मग कर दे.. से की है। इसके बाद बादलों ढूढों-ढूढों रे सांवरियां मेरा खो गया मेला में गाकर खूब तालियां बटोरी। वहां लखनऊ से आये कवि अभय निर्भीक ने देशभक्ति कविता-सीना ताने स्वाभिमान से सीमाओं पर हम रहते है, हसते हसते वत्सल पर गोली खाते हैं गाकर जमकर वाह-वाही बटोरी। वहीं मथुरा से आये कवि मानवीर मधु ने भी अपनी प्रस्तुति से लोगों पर अपनी अमिट पहचान छोड़ी। पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन के तत्वावधान में आयोजित काव्याजंलि का उदघाटन पूर्व केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह, गन्ना उद्योग मंत्री प्रमोद कुमार, सदर एसडीओ सौरभ सुमन यादव ने संयुक्त रूप से किया। मौके पर निदेशक डॉ. केजी मंडल, केविके प्रमुख अरविद कुमार सिंह, बीडीओ मुकेश कुमार, विधायक सुनील मणि तिवारी, श्यामबाबू यादव, कृष्णनंदन पासवान, डॉ. अंजनी कुमार, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रकाश अस्थाना, प्रो. डॉ अरुण कुमार, गणेश सिंह, रविन्द्र सहनी, मुखिया हेमन्त कुमार, राकेश गुप्ता, रविशंकर श्रीवास्तव, पवन राज तिवारी, गुलरेज शहजाद, संजीव सिंह, डा लालबाबू प्रसाद, कुंदन पासवान, रोहित कुमार सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

-------------

इनसेट

अटल जी का था भारत को परम वैभव तक ले जाने का सपना : राधामोहन

फोटो : 25 एमटीएच 15

मोतिहारी/पीपराकोठी : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत को शक्तिशाली बनाने व देश को परम वैभव तक ले जाने का सपना देखा था। उस अधूरे सपने को पीएम नरेंद्र मोदी पूरा कर रहे हैं। उक्त बातें भाजपा कार्यालय व पिपराकोठी कृषि विज्ञान केंद्र परिसर में पूर्व प्रधानमंत्री स्व अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए सासंद सह पूर्व कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि अटल जी दलीय सीमाओं से ऊपर उठकर पक्ष और विपक्ष सभी की श्रद्धा और सम्मान के पात्र थे। इसी लिए उन्हें अजातशत्रु भी कहा गया। छह दशकों का उनका लम्बा सार्वजनिक जीवन निष्कलंक रहा। उन्होंने यूएनओ में पहली बार हिदी में भाषण दे कर राष्ट्र भाषा को प्रतिष्ठापित किया। मौके पर जिला महामंत्री द्वय डॉ. लालबाबू प्रसाद एवं मार्तण्ड नारायण सिंह, प्रवक्ता संजीव सिंह, मीडिया प्रभारी गुलरेज शहजाद, नगर अध्यक्ष रविभूषण श्रीवास्तव, विनोद कुशवाहा, पप्पू पाण्डेय, अमिताभ भार्गव, रोचक झा, शंकरानंद कश्यप, सौरभ कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित थे। इस मौके पर सांसद श्री सिंह ने पिपराकोठी में कुम्हार जाति के 80 कामगारों के बीच बैटरी चलित चाक का वितरण किया। दस दिव्यांगो को बैटरी चलित ट्राईसाइकिल भी दी।

Edited By: Jagran