मोतिहारी । अनलॉक वन के तीसरे दिन सड़कों पर चहल-पहल देखी गई, पर खरीदारों की कमी खटकती रही। छूट मिलने पर शहर के विभिन्न बाजारों में लोग जरूर पहुंचने लगे हैं। लेकिन, व्यवसायियों की माने तो फिलहाल लोग जरूरत के सामान की खरीदारी को ही तवज्जो दे रहे हैं। इलेक्ट्रॉनिक सामान के विक्रेता मनोज कुमार की माने तो परिवहन में हो रही समस्याओं के कारण सामान की आपूíत सही ढंग से नहीं हो पा रही है। पहले की स्थिति और आज की स्थिति में लगभग 50 फीसद का अंतर बिक्री में देखने को मिल रहा है। वहीं अभी भी स्टाफ और सेल्स से संबंधित लोग नहीं आ पा रहे हैं। आलोक ड्रेसेज के आलोक कुमार बताते हैं कि लॉकडाउन से पहले व्यवसाय की स्थिति काफी अच्छी थी। लेकिन, वर्तमान में खरीदारी के लिए ग्राहक नहीं पहुंच रहे। लग्न एवं ईद के समय भी लॉकडाउन के कारण बिक्री नहीं हो सकी। बाटा शोरूम के मैनेजर राहुल कुमार के मुताबिक लॉकडाउन से पहले प्रतिदिन 80-90 हजार रुपये की बिक्री हो रही थी। लेकिन, अब प्रतिदिन 20-25 हजार की बिक्री मुश्किल से हो पा रही है। कोरोना संक्रमण की वजह से ग्राहक दुकानों में आने से डर रहे हैं। आरसी इंटरप्राइजेज महिद्रा के एचआर कुमार शानू बताते हैं कि ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री की स्थिति काफी खराब है। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए बुकिग व इंश्योरेंस की ऑफलाइन सुविधाओं को ऑनलाइन करने का प्रयास किया जा रहा है। लॉकडाउन की वजह से सेल्स अटेंडेंट को फील्ड में नहीं भेजा रहे हैं। इससे भी बिक्री पर प्रभाव पड़ रहा है। वहीं रामजी प्रसाद ज्वेलर्स के मैनेजर धर्मेन्द्र कुमार का कहना है कि व्यवसाय धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ रहा है। व्यवसाय का सबसे अंतिम पड़ाव सोना-चांदी की दुकान होता है, इसलिए यहां अन्य दुकानों की अपेक्षा ग्राहकों की संख्या में काफी कमी देखने को मिल रही है। ईद के दौरान भी सिर्फ दो दिनों के लिए दुकान खोलने की अनुमति मिली थी, जिससे व्यवसाय पर कोई खास असर नहीं हुआ। पहले की अपेक्षा अब 30 फीसद की ही बिक्री हो पा रही है। इधर अनलॉक वन में सार्वजनिक वाहनों के परिचालन की अनुमति मिलने के बावजूद भी पहले की तरह बसों का संचालन नहीं हो पा रहा। सरकारी बस अड्डा के प्रतिष्ठान अधीक्षक सुबोध राय का कहना है कि फिलहाल काफी कम संख्या में यात्री पहुंच रहे हैं। बसों के परिचालन में निर्देशों का पूरी तरह अनुपालन किया जा रहा है। बिना मास्क के किसी को भी बस में चढ़ने की अनुमति नहीं दी जा रही है। बसों को यात्रियों के चढ़ने से पूर्व और उतरने के बाद वाशिग व सैनिटाइज करने का काम किया जा रहा है। सीट के अनुसार ही यात्रियों को बैठाया जा रहा है। लॉकडाउन खुलने के बाद पहले दिन 2 बस, दूसरे दिन 7 व तीसरे दिन 10 बसों का परिचालन हुआ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस