मोतिहारी। समाहरणालय स्थित विभिन्न कार्यालयों की कार्य-संस्कृति की पड़ताल सोमवार को जिलाधिकारी रमण कुमार ने स्वयं की। बिना किसी सुरक्षा गार्ड के अकेले निकल कर विभिन्न कार्यालयों में कर्मियों द्वारा किए जा रहे कार्यों को काफी करीब से देखा। निरीक्षण के क्रम में जिला परिवहन कार्यालय की व्यवस्था सरकारी मानकों के विपरीत दिखी। काउंटर पर कर्मी नहीं थे। लोग कर्मियों का इंतजार कर रहे थे। कुछ बाहरी लोग भी कार्यालय में मौजूद मिले। इस स्थिति को देख डीएम ने तत्काल जिला परिवहन पदाधिकारी को तलब किया। कहा - कार्यालय में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। तत्काल इस दिशा में सुधार करें। अभिलेखागार की स्थिति भी काफी खराब मिली। कर्मियों द्वारा महीनों पूर्व दिए गए आवेदनों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। कर्मियों को केवल दौड़ाया जा रहा था। यहां के कर्मियों का व्यवहार भी लोगों से ठीक नहीं मिला। आइसीडीएस कार्यालय की व्यवस्था भी बदहाल मिली। एक व्यक्ति को रोककर आने का कारण पूछा तो पता चला कि डेढ़ साल पूर्व के मामले में अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। लगातार दौड़ने के बाद भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया जाता। इसी तरह अन्य विभागों में भी फाइलों की स्थिति लंबित मिली। जिलाधिकारी ने कर्मियों को स्थिति में सुधार लाने का सख्त निर्देश जारी किया। भ्रमण के क्रम में कई लोगों से बात कर आने का कारण पूछा। एक चाय दुकान में छोटे बच्चे को रखने पर उसके पिता को फटकार लगाई व बच्चे को स्कूल भेजने का निर्देश दिया। कुछ महिलाएं मिली जो कार्य से आई थीं। उनसे बात कर समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया। अनुकंपा समिति की बैठक में 18 होमगार्डों को मिली नौकरी जिलास्तरीय अनुकंपा समिति की बैठक जिलाधिकारी रमण कुमार की अध्यक्षता में हुई। इसमें 18 लोगों को के आवेदन पर विचार करते हुए उन्हें नौकरी दी गई। जिलाधिकारी ने बताया कि वर्ष 2008 से होमगार्ड की बहाली को लेकर अनुकंपा समिति की बैठक नहीं हुई थी। सोमवार को बैठक में उन्हें नौकरी के लिए अंतिम स्वीकृति दे दी गई है। छठघाटों पर गोताखोरों की होगी तैनाती जासं, मोतिहारी : जिला पदाधिकारी रमण कुमार की अध्यक्षता में छठ पर्व के अवसर पर विधि व्यवस्था के सुचारू संचालन को ले की गई तैयारी कि विस्तृत समीक्षा की गई। समीक्षा के क्रम में कार्यपालक पदाधिकारी नगर परिषद मोतिहारी/नगर पंचायत चकिया, केसरिया, अरेराज आदि द्वारा यह जानकारी दी गई की उक्त क्षेत्रों में छठ घाटों की सफाई व महत्वपूर्ण छठ घाटों पर बैरिके¨डग की व्यवस्था हेतु युद्ध स्तर पर कार्रवाई की जा रही है। कहा गया कि महत्वपूर्ण नदी व छठ घाटों पर गोताखोरों की व्यवस्था हेतु आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिए गए हैं। सभी महत्वपूर्ण छठ घाटों के चिन्हित स्थलों पर भीड़ प्रबंधन के उद्देश्य से वॉच टॉवर की स्थापना का निर्देश दिया गया है। कार्यपालक अभियंता(विद्युत) को छठ पर्व के अवसर पर निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है। सदर अस्पताल व सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को सक्रिय रखने एवं पर्याप्त संख्या में चिकित्सक की तैनाती का निर्देश दिया गया है।

दीपावली पर्व के अवसर पर पर्यावरण को वायु-ध्वनि प्रदूषण से मुक्त रखने के संबंध में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निर्देश के आलोक में क्रमबद्ध पटाखा या लरी वाले पटाखों के निर्माण व बिक्री को प्रतिबंधित कर दिया गया है। नियमसंगत पटाखों की बिक्री केवल लाइसेंसधारी विक्रेता ही कर सकेंगे। दीपावली पर्व या अन्य पर्व जैसे छठ, गुरुपूर्णिमा आदि के अवसर पर पटाखा का उपयोग 8 बजे से 10 बजे रात तक ही किया जा सकेगा। क्रिसमस-नव वर्ष के अवसर पर 11.55 बजे से 12.30 पूर्वाह्न तक पटाखा का उपयोग किया जा सकेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस