रक्सौल । ए ग्रेड दर्जा प्राप्त रक्सौल रेलवे स्टेशन पर डिजिटल म्यूजियम लगेगा। इसको लेकर कवायद शुरू हो गई है। इसकी प्रक्रिया अंतिम चरण में है। बताया जाता है कि रेलवे बोर्ड ने भारत-नेपाल सीमा पर अवस्थित होने के कारण इस स्टेशन की महत्ता को देखते हुए यह कदम उठाया है। रेलवे बोर्ड ने समस्तीपुर मंडल के सीनियर डीसीएम को पत्र लिखा है। पत्र के आलोक में सीनियर डीसीएम ने मुख्य वाणिज्य निरीक्षक को एक सप्ताह के अंदर भूमि चिन्हित कर रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है। इसको लेकर स्टेशन के बाहर पार्क के पास भूमि का चयन कर लिया गया है। यह म्यूजियम 32 सौ वर्ग मीटर में बनेगा। जिसका ऑपरेटिग चयनित एजेंसी के द्वारा किया जाएगा। रेलवे बोर्ड ने म्यूजियम लगाने की जिम्मेवारी रेल टेल कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, कोलकाता को सौंपी है। इस स्टेशन से होकर लगभग पांच से छह हजार यात्री प्रतिदिन सफर करते है। जिसे करीब दो लाख रुपये राजस्व की प्राप्ति होती है। इस स्टेशन से नेपाल आने-जाने के लिए हजारों की संख्या में देशी-विदेशी पर्यटक आते हैं। रेलवे बोर्ड के इस कदम से लोग उत्साहित हैं।

---------

ए वन और ए ग्रेड दर्जा प्राप्त

स्टेशन पर लगेगा म्यूजियम रेलवे बोर्ड के जारी पत्र में कहा गया है कि डिजिटल म्यूजियम केवल ए वन और ए ग्रेड दर्जा प्राप्त स्टेशनों पर ही लगाया जाएगा। समस्तीपुर मंडल में पहले रक्सौल के बाद ही अन्य स्टेशनों पर लगाया जाएगा । इनमें बापूधाम मोतिहारी, बेतिया, नरकटियागंज सहित अन्य स्टेशन शामिल है।

-----

क्या होगा लाभ

स्टेशन पर डिजिटल म्यूजियम के लग जाने के बाद लोग विभिन्न प्रकार की जानकारियां ले सकेंगे। स्क्रीन पर स्वतंत्रता संग्राम के योद्धाओं, चंपारण की क्षेत्रीय संस्कृति, आजादी दिलाने वाले वीर सपूतों की जीवनी, भारतीय रेलवे स्टेशनों सहित अन्य जगहों के संबंध में जानकारी ले सकेंगे। वहीं ट्रेन के विलंब होने पर यात्री डिजिटल म्यूजियम के सहारे अपना बहुमूल्य समय बिता सकेंगे।

---

बयान :

भूमि का चयन कर लिया गया है। जल्द ही रिपोर्ट मंडल को भेज दी जाएगी।

-वरूण कुमार सिंह, मुख्य वाणिज्य निरीक्षक, रक्सौल

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस