मोतिहारी। रक्सौल प्रखंड क्षेत्र के राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय भरतमही के प्रांगण में सोमवार को प्रयास जुवेनाइल एंड सेंटर रक्सौल और आशीष परियोजना डंकन हॉस्पिटल रक्सौल द्वारा संयुक्त रूप से अक्षय तृतीया के अवसर पर होने वाले बाल विवाह की रोकथाम को लेकर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आशीष प्रोजेक्ट के समीर दिगल ने ग्रामीणों को बाल विवाह के बारे में विस्तारपूर्वक बताया। प्रयास संस्था की आरती कुमारी ने बच्चों को उनके उम्र के बारे में बताया कि जिन लड़के-लड़कियों ने 18 साल की उम्र पूरी नहीं की है, वह नाबालिग हैं। बताया कि लड़की की शादी 18 वर्ष और लड़के की शादी 21 वर्ष के बाद ही करना चाहिए। वही प्रयास मोतिहारी के विजय कुमार शर्मा ने बताया कि बाल विवाह समाज के लिए अभिशाप है। चाइल्ड लाइन रक्सौल के अमित कुमार ने बच्चों और ग्रामीणों को 1098 टोल फ्री नंबर के बारे में जानकारी दी। जिसमें बच्चे संबंधी कोई भी समस्या का समाधान किया जाता है। इसके साथ अक्षय तृतीया के अवसर पर बाल विवाह ना हो, इसके लिए मंदिर व मस्जिद जाकर पंडित और मौलवी से मिल कर जागरूक किया गया। मौके पर प्रयास संस्था के राज गुप्ता, आशीष संस्था से मुकेश, दिलीप, अंशुता, शालिनी, स्कूल के प्रधानाध्यापक दिनेश कुमार, शिल्पा कुमारी, प्रमोद कुमार, कुमारी अपराजिता सहित अन्य उपस्थित थे।

Posted By: Jagran