मोतिहारी। शहर के मुख्य पथ स्थित डाकघर में सीबीआइ की चार सदस्यीय टीम ने बुधवार की सुबह छापेमारी की। इस दौरान डाककर्मियों में अफरातफरी का माहौल रहा। टीम सुबह के करीब 09:30 बजे डाकघर के मुख्य गेट पर पहुंची। तब चंपारण प्रमंडल के डाक अधीक्षक राजकुमार दूबे को फोन पर जानकारी दी। फिर एकाउंट सेक्शन पहुंची। जहां उपलब्ध कैश की जांच की। फिर उससे संबंधित अभिलेखों की जांच की। इसके बाद टीम ने दो-तीन दिन पूर्व उप डाकघरों को भेजे गए नकदी के विषय में अधिकारियों से पूछताछ की। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीबीआइ ने स्ट्रांग रूम से कुछ रुपये अधिक पाया। जो प्रतिदिन बंद के समय रोकड़ बही का मिलान करने से अधिक था। इस संबंध में अधिकारी एवं कर्मचारियों से पूछताछ की। सीबीआइ की टीम ने करीब चार घंटे तक विभिन्न अभिलेखों को खंगाला। बताया जाता है कि केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने बिहार में एक साथ करीब छह जगहों पर छापेमारी की है। जिसमें पूर्वी चंपारण जिले के सीमावर्ती शहर रक्सौल स्थित डाकघर भी है। सूत्र बताते है कि सीबीआई को जानकारी मिली है कि डाकघर के माध्यम से कैश का आना-जाना हो रहा है। हालांकि अधिकारी इससे इन्कार कर रहे है। इस संबंध में पूछे जाने पर रक्सौल डाकघर के पोस्टमास्टर धनंजय कुमार ने बताया कि सीबीआई पटना की चार सदस्यीय टीम सुबह पहुंची थी। विभिन्न बिदुओं पर जांच कर दोपहर करीब डेढ़ बजे चली गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस