मोतिहारी । थाना क्षेत्र के मोहनवा गांव स्थित सुब्बा सिंह के टोला में बबलू सिह (39) हत्याकांड की गुत्थी सुलझती दिख रही है। पुलिस इसके उद्भेदन के लिए कई लोगों से पूछताछ के साथ डाग स्क्वाड के सहारे भी हत्यारे की गिरेबान तक पहुंचने का प्रयास कर रही थी कि शुक्रवार को कांड का पर्दाफाश हो गया। मृतक के छोटे भाई ने पुलिस को फोनकर अपनी भाभी को उनके हवाले कर दिया। इसके बाद पुलिस ने थाना लाकर पत्नी से पूछताछ की। जांच प्रभावित न हो इसलिए पुलिस अभी गोपनीयता बरती जा रही।

हत्याकांड में प्रारंभिक बातें जो सामने आ रही है, उसमें प्रेम प्रसंग में पत्नी ने पति की हत्या की साजिश रची और प्रेमी के अन्य साथियों के साथ बड़े ही निर्मम तरीके से बबलू की हत्या कर रविवार को गांव के दक्षिण एक पोखर के पीछे आम के बगीचे में फेंक दिया था। हत्यारों में बबलू के भी दोस्त थे, जिसके लिए वह घर से मीट बनवाकर ले गया था। शव के पास से मृतक का सेलफोन बरामदगी के साथ स्टील का प्लेट, ग्लास, दो डिस्पोजल ग्लास मिले थे। इस घटना में पत्नी द्वारा अज्ञात लोगों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी। बबलू की शादी वर्ष 2007 में सीतामढ़ी जिले के गड़हा गांव में हुई थी। उसे दो पुत्र व एक पुत्री भी हैं। सबसे बड़े संतान की उम्र 13 वर्ष है। बबलू के बारे में बताया जाता कि वह काफी दिनों से दिल्ली में रहकर हेलमेट कंपनी में मजदूरी करता था। गत वर्ष वह विश्वकर्मा पूजा पर घर आया था। तबसे वह गांव के शत्रुघ्न सिंह की आरा मिल पर काम करने लगा। लंबे समय से पति के बाहर रहने के कारण पत्‍‌नी का का किसी युवक से प्रेम हो गया। प्यार परवान चढ़ता गया। पति के बाहर न जाने के फैसले से दोनों को परेशानी होने लगी। तब दोनों ने मिलकर उसे रास्ते से हटाने के लिए हत्या को अंजाम दे दिया। हत्यारे मधुबन से सटे उतर गांव के बताए जा रहे है। पुलिस गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है।

Edited By: Jagran