मोतिहारी। चंपारण में प्रति वर्ष खुले में शौच के कारण डायरिया व हैजा से साढ़े चार सौ लोगों की मौत हो रही है। यह अत्यंत दुखद स्थिति है। हम प्रतिदिन अपने बच्चों को खुले में शौच करने वालों का मानव मल बच्चों को खिला रहे हैं। खुले में शौच अनगिनत बीमारियों को जन्म देती है। जिस कारण लोग अपनी गाढ़ी कमाई का बड़ा हिस्सा बच्चे, बुजुर्गों व महिलाओं के इलाज में खर्च करने को मजबूर हैं। इसका एक मात्र निदान खुले में शौच से मुक्ति है। हमको संकल्प लेना होगा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती दो अक्टूबर को चंपारण खुले में शौच से मुक्त हो जाए। उक्त बातें जिलाधिकारी रमण कुमार ने रविवार की देर शाम कोठियां हरेराम पंचायत के वार्ड संख्या दो में आयोजित रात्रि चौपाल में कही। इस दौरान लोगों से रूबरू होकर उन्होंने शौचालय निर्माण की प्रगति का जायजा लिया। उन्होंने सैनुल नेशा से पूछा कि शौचालय के पईसा मिले में केतना घुस लागल ह? साच- साच बताई। मंदिर के बगल में खड़ा बानी। झूठ ना बोलेम। इस पर सैनुल नेशा ने कहा कि हजूर एको रुपया घूस ना लागल है। हमरा बारह हजार रुपया मिल गईल बा। उन्होंने मौके पर मौजूद मुखिया, वार्ड सदस्यों व ग्रामीणों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आप अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों का निर्वहन ईमानदारी से करें। लोगों को शौचालय निर्माण व उसके प्रयोग के लिए प्रेरित करें। इसी में आप और आपके बच्चों की भलाई है। शौचालय निर्माण के भुगतान की प्रक्रिया को सरल बना दिया गया है। डीएम ने उपस्थित लोगों से शौचालय निर्माण के लिए शपथ दिलाई। बच्चों से नारा लगवाते हुए कहा कि जिस तरह आप लोग मम्मी-पापा से चॉकलेट व पेंसिल के लिए जिद करते हैं, वैसे ही वे शौचालय बनवाने के लिए करें। यूनिसेफ के शशिभूषण पांडेय ने लोगों को खुले में शौच से होने वाली बीमारियों व नुकसान के बारे में विस्तार से बताया। कहा कि लोग इलाज में खर्च के कारण गरीब हो रहे हैं। अगर गरीबी दूर करना है तो खुले में शौच से अपने क्षेत्र को मुक्त बनाना होगा। जब बीमारी नहीं होगी तो खर्च भी कम होगा। वर्तमान परिवेश में ¨हदुस्तान में दो ही बड़े मुद्दे हैं। पढ़ाई और सफाई। हमे पढ़ने के साथ-साथ स्वच्छता पर भी अडिग होना होगा। इसपर किसी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिए। सिर्फ शौचालय बनवा लेना ही पर्याप्त नही है। सबसे जरूरी है शौचालय का उपयोग करें। बीडीओ गौरी कुमारी ने ओडीएफ को लेकर किए जा रहे कार्य से डीएम को अवगत कराया। शौचालय निर्माण कर चुके 38 लाभुकों को बारह हजार रुपये की दर से ऑन द स्पॉट उनके खाते में राशि भेजी गई। जिन लोगों को राशि मिली उनमें ¨मटू यादव, सियापति देवी, संजू देवी, फातिमा खातून, अरुण राम, ¨सघेश्वर राम, पवन देवी, सीमा देवी, सीता देवी, सुरेंद्र प्रसाद यादव, राजकुमारी देवी, मनमंती देवी, संजीव कुमार, किशोरी देवी, जंग बहादुर राम, सुनैना देवी, मनोज कुमार प्रभाकर, खैतून नेशा, लक्ष्मीनिया देवी, रामदेनी ठाकुर, उमस राय, हरिमोहन प्रसाद, मीला देवी, अनीता देवी, नीलम देवी, शारदा देवी, शिव कुमार राय, नंदकिशोर यादव, जितेंद्र साह, माया देवी, नीलू देवी, इतरी देवी, कौलेश्वरी देवी, ¨चता देवी, लालपरी देवी, मीना देवी व संजू गुप्ता के नाम शामिल हैं।

मौके पर बीएओ भारती ¨सहा, महिला प्रसार पदाधिकारी सुनीता कुमारी, प्रखंड पर्यवेक्षिका ममता कुमारी, बीसीएम विजय कुमार, मुखिया गणेश बैठा, उपमुखिया इंदु देवी, सामाजिक कार्यकर्ता रामसागर यादव, विनय कुमार, छोटेलाल सहनी, शंभू ठाकुर, महेंद्र राय, मोहन राम, उपेंद्र ठाकुर मौजूद रहे।

निरोग रहने के लिए करें शौचालय का उपयोग : डीडीसी पकड़ीदयाल, संस : निरोग रहके ज्यादा दिन जिए खातिर साफ सुथरा रहे के पड़ी। ज्यादा गंदगी शौचालय खुला में गेला से फैलेला। शौचालय का उपयोग करेम त बीमार ना पड़ेम। उक्त बातें उप विकास आयुक्त अखिलेश कुमार ¨सह सोमवार को अगले सुबह बड़का गांव में मॉर्निंग फॉलोअप के वक्त गांव के बुजुर्गों से कही। आज भी यहां के बुजुर्ग खुले में शौचालय जाते हैं, जबकि गांव में अधिकतर शौचालय निर्माण हो चुका है। उप विकास आयुक्त श्री ¨सह ने मध्य विद्यालय बड़कागांव में पदाधिकारी व जनप्रतिनिधियों के साथ चौपाल लगाकर ओडीएफ करने में आ रही बाधाओं पर विमर्श किया। अगली रणनीति तैयार की। मौके पर वीडियो सूरज कुमार ¨सह, सीओ राजेश कुमार, प्राचार्य विजय कुमार ¨सह, पूर्व प्राचार्य डॉ. भैरो ¨सह, विद्यालय प्रधान राजीव कुमार, शुभम शर्मा, विवेक शंकर, अनुराधा देवी, गणेश शंकर ¨सह, मनीष कुमार, रजनीश शेखर, प्रखंड समन्वयक अहमद अली, समाजसेवी शिवनाथ ¨सह उपस्थित थे।

Posted By: Jagran