दरभंगा। इंश्योरेंस इंप्लायज यूनियन मुजफ्फरपुर डिवीजन (आईईयूएमडी) का 45 वां दो दिवसीय वार्षिक सम्मेलन रविवार को संपन्न हो गया। रामबाग के गंगा कांप्लेक्स में आयोजित इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय महामंत्री श्रीकांत मिश्रा ने कहा कि बीमा कर्मियों के संघर्ष करना एआईआईईए का उद्देश्य है। बीमा उद्योग और भाजीबी निगम के प्रतिरक्षण के लिए भी यह संगठन हमेशा सजग रहता है। इसकी प्रगति के लिए कई रिजोल्युशन पास किए गए हैं। महामंत्री मिश्रा ने कहा कि सत्तारूढ़ सरकार फासीवाद है। उसने इसकी घोर ¨नदा की। संयुक्त सचिव वीर चंद्र ने कहा कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए बीमा कर्मियों को देश के आम आवाम के बीच जन चेतना जगाने की जरूरत पर बल दिया। श्रमिक आंदोलन और किसान आंदोलनों को संगठन के माध्यम से ही मजबूत करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि श्रम अधिकारों , सामाजिक सुरक्षा के अधिकारों को कुचलने के सरकारी कुचक्र , पेट्रोल की कीमतों में बेहताशा बृद्वि, किसानों की आत्महत्या, सार्वजनिक क्षेत्रों का विनिवेश, भाजीबी निगम के पीएयू स्वरूप को बचाने की जरूरत है। इसके अलावा 14 शाखाओं के डेलिगेटस और आब्जर्वरों ने शाखाओं के विभिन्न समस्याओं से अवगत कराया। इस मौके पर वर्किंग कमेटी रिपोर्ट , आडिट, संगठन की स्थिति और भूमिका समेत 16 रिज्योलेशन प्रस्तूत किया गया। इसके साथ आईईयूएमडी कार्यकारणी का चुनाव कराया गया। इसमें महामंत्री संतोष कुमार और अध्यक्ष अमरेंद्र लाल बनाए गए है।

Posted By: Jagran