दरभंगा। जदयू नेता विधान पार्षद मौलाना गुलाम रसूल बलियावी ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने काम के आधार पर देश और प्रदेश में अपनी छवि बनाई है। उन्हें विकास पुरुष लोग ऐसे ही नहीं कहते हैं। विकास पहचान बन गई है उनकी। जाति धर्म तथा राजनीति से ऊपर उठकर उन्होंने बिहार का विकास किया है और इस विकास में सभी लोग शामिल हैं। उनकी न कोई जाति है और ना उनका कोई धर्म है। उनका धर्म है विकास उनकी जाति है विकास और उन्होंने अपना जीवन विकास को समर्पित कर दिया है। आज अगर शिक्षकों का ग्राफ बढ़ा है तो वह नीतीश की देन है। पहले शिक्षक डेढ़ हजार रुपये पाया करते थे। आज उन्हीं शिक्षकों को 30,000 रुपये प्रतिमाह वेतन दिया जा रहा है। तालिमी मरकज में हजारों लोग काम कर रहे हैं। उन्हें भी 8000 रुपये प्रतिमाह दिया जा रहा है। आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका सहायिका का मानदेय भी नीतीश ने कहां से कहां कर दिया है। इन लोगों के जीवन में खुशहाली लाने का श्रेय तो मुख्यमंत्री को ही जाता है। वे दरभंगा प्रवास के क्रम में जदयू नेता एहसान अहमद के आवास पर संवाददाताओं से मुखातिब थे। बलियावी ने कहा कि बिहार के लोग देख रहे हैं, नीतीश कुमार सबके लिए काम कर रहे हैं। इसीलिए सूबे के लोगों का जाति धर्म संप्रदाय से ऊपर उठकर उन पर विश्वास है और आने वाले चुनाव में लोग अपने इस विश्वास को मत के माध्यम से प्रकट करेंगे। अपार बहुमत से राज्य में नीतीश कुमार के नेतृत्व में हमारा गठबंधन विजय प्राप्त करेगा।

Posted By: Jagran