दरभंगा। विद्यापति सेवा संस्थान की ओर से महाराज महेश ठाकुर महाविद्यालय के सभागार में सोमवार को भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक सभा आयोजित कर श्रद्धांजलि दी गई। जिसकी अध्यक्षता लनामिविवि के पूर्व कुलपति डॉ. एसएम झा ने की। संस्थान के महासचिव चौधरी ने कहा कि डॉ. बैजनाथ चौधरी बैजू ने कहा कि मैथिली को अष्टम अनुसूची में स्थान दिलाने के लिए उनके योगदान को मिथिलावासी कभी भुला नहीं सकते। यहां के लोग सदा उनका ऋणी रहेंगे। पूर्व कुलपति डॉ. राज किशोर झा ने उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर विचार करते हुए कहा कि अटल जी का कद पक्ष-विपक्ष से ऊपर था। वे अजातशत्रु थे। पूर्व विधान पार्षद डॉ. विनोद कुमार चौधरी ने कहा कि किए गए कार्यों को लेकर अटल जी सदा याद किए जाएंगे। बहुमुखी प्रतिभा के धनी अटल जी को बिहार में विशेष रूप से मिथिलांचल में लोग याद करते रहेंगे। मौके पर पं. कमला कांत झा, डॉ. विद्या नाथ झा,उदय शंकर मिश्र, अमरेंदु शेखर पाठक सहित कई लोगों ने श्रद्धांजलि दी। साथ ही कोसी महासेतु का नामकरण अटल जी के नाम पर करने, संस्थान से वर्ष 2018 में अटलजी स्मृति ग्रंथ प्रकाशित करने, मिथिला विभूति पर्व के अर्पण स्मारिका अटलजी पर केंद्रित कर प्रकाशित करने, साथ ही दरभंगा नगर निगम से शहर के किसी एक चौराहा का नामकरण अटल जी के नाम पर करने का प्रस्ताव पारित किया गया। मौके पर मुरलीधर झा, हीरा कांत झा, चंद्रशेखर झा बुढ़ा भाई, जीव कांत मिश्र, हरि किशोर झा, चंद्र मोहन झा पड़वा, हरि किशोर चौधरी, राज किशोर झा, अमरेंद्र मिश्र, शोभेश्वर झा दधिचि आदि ने विचार रखे। संचालन चंद्रेश तथा धन्यवाद ज्ञापन प्रधानाचार्य डॉ. उदय कांत मिश्र ने किया। दूसरी ओर मारवाड़ी कॉलेज में प्रधानाचार्य डॉ. श्याम चंद्र गुप्ता की अध्यक्षता में आयोजित शोक सभा में अटलजी के जीवन पर चर्चा हुई। मौके पर डॉ. हीरा कांत झा,डॉ. अलख निरंजन ¨सह, डॉ. एसएम जफर, डॉ. प्रभावती, डॉ. एसवके गुप्ता, डॉ. सोनू राम शंकर, डॉ. अवधेश प्रसाद यादव, डॉ. अनिल बिहारी वर्मा, आमोद नारायण ¨सह, युगेश्वर, विजय कुमार, आनंद शंकर राजू मंडल, सूर्य नारायण राय आदि ने श्रद्धांजलि दी।

Posted By: Jagran